Patrika Hindi News

Photo Icon यहां पति से ज्यादा WIFE ले रहीं तलाक, 'खुला' कहकर तोड़ रहीं रिश्ता

Updated: IST triple talaq
जहां मुस्लिम शरीयत कानून के अनुसार ट्रिपल तलाक को जायज ठहरा रहे हैं, वहीं केंद्र कानून मंत्रालय इस पर सवाल खड़े कर रहा है।

भोपाल। उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव के ठीक पहले उठे ट्रिपल तलाक के मुद्दे ने इंडिया की सियासत में उफान ला दिया है। जहां मुस्लिम शरीयत कानून के अनुसार ट्रिपल तलाक को जायज ठहरा रहे हैं, वहीं केंद्र कानून मंत्रालय इस पर सवाल खड़े कर रहा है। ट्रिपल तलाक का मतलब होता है कि कोई भी मुस्लिम पति अपनी पत्नी से सिर्फ तीन बार तलाक कहकर रिश्ता तोड़ सकता है। पर, इससे भी दिलचस्प एक फैक्ट है वो ये कि मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में जहां पिछले चार साल में एक भी मुस्लिम पति ने तीन बार तलाक कहकर रिश्ता नहीं तोड़ा, वहीं मुस्लिम पत्नियों ने 'खुला' कदम उठाकर तलाक की अर्जियां शरिया कोर्ट में दाखिल कीं। आएइ जानते हैं कुछ और रोचक तथ्य...

क्या है खुला?
जिस तरह शरीयत कानून के मुताबिक मुस्लिम पति अपनी पत्नियों को तलाक देने के लिए तीन बार तलाक-तलाक-तलाक कहकर रिश्ता तोड़ लेते हैं, ठीक उसी तरह मुस्लिम पत्नियां अपने तलाक लेने के लिए शरिया कोर्ट में 'खुला' (तलाक का आवेदन) दाखिल करती हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े
पिछले चार साल में जहां भोपाल में पतियों द्वारा ट्रिपल तलाक कहकर रिश्ता तोडऩे के मामले शून्य रहे, वहीं 'खुला' के जरिए पत्नियों द्वारा तलाक लेने के आंकड़े ज्यादा रहे।

triple talaq
(तलाक पति, जबकि खुला पत्नी, आंकड़े शरिया कोर्ट के अनुसार)

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???