Patrika Hindi News

बीयू के 240 कर्मचारियों को नहीं मिली राशि, यूनियन बैंक ने लौटा दिया चेक

Updated: IST Note ban new rules of withdrawl
बिलासपुर यूनिवर्सिटी के 240 कर्मचारियों को नकद तो मिला ही नहीं, उल्टे उनके वेतन से 10-10 हजार रुपए कटने की नौबत आ गई।

बिलासपुर. शासन और बैंक के चक्कर में बीयू के 240 कर्मचारियों के वेतन का मामला गड़बड़ा गया। बैंक प्रबंधन ने आरबीआई के निर्देश का हवाला देकर 10-10 हजार नकद भुगतान के लिए जारी 24 लाख के चैक को अस्वीकार कर दिया। उधर बीयू के लेखाविभाग ने 10 -10 हजार रुपए नकदी के माइनस करके शेष रकम वेतन बिल भी जमा करा दिया। इससे कर्मचारियों के सामने वेतन को लेकर संकट की स्थिति निर्मित हो गई है। नोटबंदी की समस्या को देखते हुए राज्य सरकार के आदेश के तहत कर्मचारियों को वेतन से 10-10 हजार रुपए नकद राशि 26 से 28 नवंबर तक दिया जाना था। लेकिन सरकारी विभागों के कर्मचारियों को यह राशि अब तक नहीं मिल सकी।

बिलासपुर यूनिवर्सिटी के 240 कर्मचारियों को नकद तो मिला ही नहीं, उल्टे उनके वेतन से 10-10 हजार रुपए कटने की नौबत आ गई। बिलासपुर यूनिवर्सिटी के लेखाविभाग ने शासन के आदेशानुसार 10-10 हजार नकद अग्रिम के लिए 240 कर्मचारियों का 2 लाख 40 हजार का चैक गत 28 नवंबर को यूनियन बैंक में लगाया था। दो दिन तक बैंक का चक्कर काटने के बाद बैंक प्रबंधन ने लेखाअधिकारी को चेक यह कहकर लौटा दिया कि इसमें यूनिवर्सिटी प्रशासन का घोषणा पत्र नहीं है। लेखा विभाग के कर्मचारी जब घोषणा पत्र लेकर पहुंचे तो बैंक ने चैक वापस ले लिया इसके बाद गुरुवार को आरबीआई के दिशा निर्देश का हवाला देकर फिर चैक वापस कर दिया। चैक समेत यूनिवर्सिटी के वित्ताधिकारी को भेजे गए पत्र में बैंक प्रबंधन ने कहा है कि आपके द्वारा भेजा गया 28 लाख का चैक साप्ताहिक सीमा से अधिक है। आरबीआई के निर्देश के तहत आपका चैक अस्वीकृत किया गया है।

जायजा लेने निकले बैंक के शीर्ष अधिकारी

सैलरी वितरण में किसी प्रकार की पेशानी नहीं हो। यह देखने के लेने के लिए बैंकों के शीर्ष अधिकारी सभी शाखाओं में दिन भर भ्रमण करते रहे। एसबीआई के क्षेत्रीय प्रबंधक शेखर शुक्ला ने रेलवे स्थित शाखा व पुराना हाईकोर्ट रोड स्थित मुख्य शाखा का दौरा किया। बैंक कर्मियों को ग्राहकों से नरमी से पेश आने की समझाइश दी गई।

शासन के निर्देश पर 10-10 हजार नकद भुगतान के लिए 240 कर्मचारियों के लिए चैक बैंक में जमा कराए गए थे। वहीं वेतन के शेष रकम के भुगतान के लिए अलग से 10-10 हजार काटकर वेतन बिल भी उसी बैंक में भेजा गया है। वेतन का 10-10 हजार रुपए तो मिला नहीं और वेतन बिल भी चला गया जिसको लेकर असमंजस की स्थिति है।

आरके श्रीवास्तव, लेखाअधिकारी, बीयू

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???