Patrika Hindi News

> > > > bilaspur: courapt officer in colletoret bilaspur

कलेक्टर साहब पढि़ए, भ्रष्टाचारियों का इकबाल इतना बुलंद है कि शिकायत हुई, जांच भी करवाई गई, पर कार्रवाई नहीं की किसी ने

Updated: IST colletoret
कलेक्टर साहब, केस आम नहीं है, दरअसल तहसील, निगम, कलेक्टोरेट ऐसे विभाग हैं, जो अपने व्यवहार से चाहें सरकारों की छवि चमका दें या चाहें तो धूल में मिला डालें

गणेश विश्वकर्मा बिलासपुर. कलेक्टर साहब, बिलासपुर में भ्रष्टाचारियों का इकबाल इतना बुलंद है कि वे सरेआम भ्रष्टाचरण करें तो भी कोई खौफ नहीं है। बीते दिनों ऐसे ही एक नायब तहसीलदार साहब के बारे में लोगों ने शिकायत पर शिकायतें की थी। आपने जांच भी करवा ली। अनुविभागीय अफसर ने इसकी रिपोर्ट भी आपको दे दी, मगर अफसोस कि ऐसे केसों से निपटना आपकी शायद प्राथमिकता में नहीं रहा होगा, क्योंकि इन अफसर पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है। कलेक्टर साहब, केस आम नहीं है, दरअसल तहसील, निगम, कलेक्टोरेट ऐसे विभाग हैं, जो अपने व्यवहार से चाहें सरकारों की छवि चमका दें या चाहें तो धूल में मिला डालें।

ऐसे शर्मनाक आरोप

कलेक्टर साहब, आपके नायब तहसीलदार के. रमेश कुमार की ऐसी शिकायतें अभी भी मिल रही हैं, जिनमें वे बहुत छोटे से काम मसलन जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, मूल निवास, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र आदि में महज मार्किंग के लिए ही 100 से लेकर 400 रुपए तक ले मांग रहे हैं। भ्रष्टाचार की राशि क्या है यह महत्वहीन है, यहां बात मंशा की है। शिकायतें तो 50 रुपए लेने तक की आई हैं।

लोगों से दुव्र्यवहार की भी शिकायतें: कलेक्टर साहब, आपके नायब तहसीलदार जनाब लोगों के साथ दुव्र्यवहार भी करते हैं। लोगों की शिकायत है कि अगर उनका एकाधिक कागज कम या ज्यादा हो या फिर साहब की अपेक्षाएं पूरी न की जाएं तो वे लोगों को दुत्कारकर भी भगाने से गुरेज नहीं करते। इतना ही नहीं रिपोर्ट में यह भी सामने आया है कि वे तमाम सील और सिक्के भी अपने बैग में लिए घूमते हैं। हो सकता है आपको यह पत्र पढ़कर अच्छा न लगे, लेकिन हमारा मकसद सिर्फ इतना है कि भ्रष्टाचार के ऐसे मसलों से कड़ाई से निपटा जाना चाहिए, ताकि नजीरें पेश की जा सकें न कि छोटे-मोटे काम समझकर छोड़ दिए जाएं।

इनकी शिकायत पेटी ने भी उगली थी ढेर शिकायतें

नायब तहसीलदार के. रमेश कुमार के ऑफिस में लगी शिकायत पेटी तो आपकी नजरों के सामने ही खोली गई थी, जिसमें सरेआम भ्रष्टाचार की ढेर शिकायतें मिली थी। इसके अलावा अनुविभागीय अफसर ने भी अपनी रिपोर्ट में सारी शिकायतों को सही पाया है। यह रिपोर्ट आपको पर्याप्त समय पहले भेज भी दी गई है, लेकिन कार्रवाई नहीं की जा सकी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे