Patrika Hindi News

> > > > bilaspur: gourang bobde case hearing in distric court bilaspur

गौरांग केस: सीजेएम कोर्ट में 57वें दिन सिविल लाइन  पुलिस ने पेश किया चालान

Updated: IST gaurang murder case
गुरुवार को गौरांग मामले के चारों आरोपियों को सीजेएम कोर्ट में पेश होना था, लेकिन आरोपियों को कोर्ट में न पेश करते हुए कोर्ट ने सीधे मामले में ट्रायल शुरू करने का निर्णय लिया

बिलासपुर गौरांग बोबड़े की संदिग्ध मौत मामले के 57वें दिन सिविल लाइन पुलिस ने सीजेएम कोर्ट में चालान पेश कर दिया। गुरुवार को गौरांग मामले के चारों आरोपियों को सीजेएम कोर्ट में पेश होना था, लेकिन आरोपियों को कोर्ट में न पेश करते हुए कोर्ट ने सीधे मामले में ट्रायल शुरू करने का निर्णय लिया। इसी मामले में चारों आरोपियों को जमानत देने के मामले को लेकर हाईकोर्ट में याचिका पर सुनवाई की गई है। इसके बाद अब सीजेएम कोर्ट में ट्रायल की डेट तय कर सुनवाई शुरू कर दी जाएगी। गौरतलब है कि 21 जुलाई की रात रामा मैग्नेटो मॉल स्थित टीडीएस बार में पार्टी मनाने के बाद मॉल के बेसमेंट में गौरांग बोबड़े की लाश खून से लथपथ मिली थी। गौरांग के साथ पार्टी में शहर के बड़े रसूखदार व्यापारियों के बेटे किंशुक अग्रवाल, करण जायसवाल, करण खुशलानी व अंकित मलहोत्रा भी शामिल थे, जो घटना के समय तक उसके साथ मौजूद थे, लेकिन उन्होंने गौरांग के गिरने या मौत की सूचना किसी को बताने की जगह वहां से भाग खड़े हुए थे।

बाद में गौरांग को बेहोश की हालत में बार के बाउंसरों ने अपनी गाड़ी से जिला अस्पताल पहुंचाया था जहां से सूचना सिविल लाइन पुलिस को दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में किंशुक अग्रवाल, करण जायसवाल, करण खुशलानी व अंकित मलहोत्रा को दोषी पाते हुए 25 जुलाई को उनके खिलाफ धारा 304 भाग-2, 120बी, 34 के तहत जुर्म दर्ज कर गिरफ्तार किया था तब से सभी आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे