Patrika Hindi News

रिकवरी कंपनी को एजेंट ने लगाया साढ़े 10 लाख का चूना

Updated: IST sirgitti thana
कंपनी के अधिकारियों ने लोगों को बताया कि उनके लोन का भुगतान पूरा नहीं हुआ है, इसलिए उन्हें एनओसी नहीं दी जा सकती।

बिलासपुर. टाटा कैपिटल फाइनेंस कंपनी द्वारा अधिकृत रिकवरी कंपनी के एजेंट ने अपने ही कंपनी के साढ़े 10 लाख रुपए हजम कर लिए। वह लोगों से वसूल की गई राशि की आधी रकम ही कंपनी में कंपनी में जमा करता था। लोन की राशि का भुगतान होने के बाद एनओसी लेने पहुंचने वाले लोगों से मिली रसीद से फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ। कंपनी के मैनेजर की शिकायत पर पुलिस ने अपराध दर्ज कर लिया है। मामले की जांच की जा रही है।

सिरगिट्टी पुलिस के अनुसार, भिलाई अंतर्गत सुपेला निवासी बीजी चांडी पिता चांडी जार्ज (33) रिकवरी कंपनी फास्ट ट्रैक के मैनेजर है। उनकी कंपनी को टाटा कैपिटल फाइनेंस कंपनी द्वारा लोन की राशि वसूली के लिए अधिकृत किया गया है।

टाटा कैपिटल फाइनेंस कंपनी से लोन लेने वालों से वसूली के लिए बीजी चांडी ने तीन वर्ष पूर्व न्यू लोको कॉलोनी निवासी शाहनवाज रजा पिता अब्दुल नईम को एजेंट नियुक्त किया था। पिछले 3 सालों से शाहनवाज लोगों से पैसा वसूल करने के बाद कंपनी में जमा करते आ रहा था। नवंबर महीने में टाटा फायनेंस कंपनी में लोन पटाने के बाद कुछ लोग एनओसी लेने पहुंचे थे, तब यह मामला खुला।

कंपनी के अधिकारियों ने लोगों को बताया कि उनके लोन का भुगतान पूरा नहीं हुआ है, इसलिए उन्हें एनओसी नहीं दी जा सकती। लोगों ने कंपनी को भुगतान की गई राशि की रसीद दिखाई तो अधिकारियों के होश उड़ गए। अधिकारियों ने अपने खाताबही से रसीद का मिलान किया तो करीब साढ़े 10 लाख रुपए का भुगतान शेष मिला, जबकि उतनी राशि के भुगतान की रसीद लोगों के पास थी।

कंपनी के अधिकारियों ने फास्ट ट्रैक के मैनेजर बीजी चांडी को घटना की जानकारी दी। मैनेजर ने एजेंट शाहनवाज से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उसका मोबाइल बंद था। मैनेजर ने भुगतान करने वाले लोगों की रसीद से कंपनी के बिलबुक से मिलान कराया, जिसमें पता चला कि एजेंट शाहनवाज द्वारा 22 जून 2016 से 9 नवंबर के बीच लोगों से पूरी राशि वसूल करने के बाद उन्हें रसीद दी गई थी।

लेकिन वसूल की राशि में से आधी उसने पास रख ली। मैनेजर ने उसके खिलाफ सिरगिट्टी थाने में शिकायत की थी। जांच के बाद गुरुवार को पुलिस ने आरोपी एजेंट के खिलाफ भादवि की धारा 406, 467, 468, 471, 420 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???