Patrika Hindi News

> > > > bilaspur: Municipal Corporation sealed construction building

मेडिकल कॉम्प्लेक्स में बहुमंजिला इमारत समेत आधा दर्जन निर्माणाधीन भवन सील

Updated: IST nagar nigam
बिना अनुमति हॉस्टल संचालित करने वाले दो हॉस्टल संचालकों को भी चिन्हांकित किया गया है

बिलासपुर. नगर निगम के संयुक्त अमले ने गुरुवार को फिर बिना भवन अनुज्ञा और अनुज्ञा के विपरीत धड़ल्ले से निर्माण कार्य करा रहे एक बहुमंजिला इमारत समेत आधा दर्जन निर्माणाधीन भवन को सील किया है। इन भवन मालिकों को पूर्व में नोटिस जारी किया गया था। वहीं बिना अनुमति हॉस्टल संचालित करने वाले दो हॉस्टल संचालकों को भी चिन्हांकित किया गया है। नगर निगम के अतिक्रमण निवारण प्रभारी प्रमिल शर्मा ने अतिक्रमण दस्ते, बाजार विभाग और नजूल शाखा के स्टाफ के साथ तेलीपारा मेडिकल काम्पलेक्स में कार्रवाई की। यहां बिना अनुमति और अनुमति के विपरीत धड़ल्ले से निर्माण कार्य जारी था।

संयुक्त अमले के अचानक पहुंचने से अफरा-तफरी मच गई। अमले ने एकता छाबड़ा के नवनिर्माणाधीन बहुमंजिला इमारत और इससे लगी जसपाल छाबड़ा, सुशील छाबड़ा, लखनलाल गौर, राजेंद्र लोकवानी और रमेश गुप्ता के मकान और दुकानों को सील कर दिया है। बताया जाता है कि इनमें किसी ने निर्माण कार्य की अनुमति ही नहीं ली है, और जिन लोगों ने खानापूर्ति के लिए अनुमति ली है उन लोगों ने नक्शे के विपरीत और बढ़ा-चढ़ाकर निर्माण कार्य करा लिया है।

क्या कर रहे भवन शाखा और जोन के प्रभारी

नगर निगम में आज तक नेहरू नगर के एक चार मंजिला इमारत के अलावा और किसी अवैध निर्माण को ढहाने की कार्रवाई नहीं की गई। नियमानुसार अवैध निर्माण को रोकने के लिए निगम में अलग भवन शाखा विभाग है। जोन वाइज इंजीनियरों को भी निगरानी कर शिकायत मिलने पर तत्काल इस पर रोक लगाने निर्देश दिए गए हैं। निगम के जिम्मेदार अफसर लेनदेन कर शहर भर में चल रहे अवैध निर्माण को मौन स्वीकृति दे रहे हैं जिसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। मामले का दिलचस्प पहलू यह है कि निगम प्रशासन ने लगातार अवैध निर्माण का मामला सामने आने के बाद भी एक भी जिम्मेदार इंजीनियर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

निगम आयुक्त के निर्देश पर संयुक्त टीम बनाकर कार्रवाई की गई है। मामला निर्माण कार्य की अनुमति न लेने और अनुमति लेकर अनुमति के विपरीत निर्माण कराने का है। सीलिंग की कार्रवाई कर निगम आयुक्त को अवगत करा दिया गया है।

प्रमिल कुमार शर्मा, अतिक्रमण निवारण अधिकारी, नगर निगम

बिल्हा, बोदरी की भी 17 दुकानें सील

नगर पंचायत बिल्हा में 11 दुकानें और बोदरी नगर पंचायत में 6 दुकानों को गुरुवार को सील किया गया। इन दुकानों के संचालकों ने बिना अनुमति अधिक क्षेत्र में दुकानों का निर्माण किया गया है। इसके नियमितीकरण के लिए किसी ने नगरीय निकायों में आवेदन नहीं किया है। राज्य शासन ने तय सीमा से अधिक क्षेत्रफल में अवैध तरीके से दुकानें व मकानों का निर्माण को नियमित करने के लिए प्रावधान किया है। इसमें तय सीमा से अधिक क्षेत्रफल में दुकानें अथवा आवास बनाने वालों नगरीय निकाय में एक आवेदन नियमितीकरण करने के लिए अनिवार्य किया गया। इस अवैध निर्माण करने वाले लोगों को उनके क्षेत्रफल के हिसाब से राज्य शासन ने जुर्माने की राशि तय की है। यह राशि जमा करने पर संबंधित निर्माण को वैधता की श्रेणी में दर्ज कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे