Patrika Hindi News

हादसे के बाद नहीं लिया सबक, दूसरे दिन भी शहर के भीतर दौड़ते रहे भारी वाहन

Updated: IST rode accident
यातायात व्यवस्था, नागरिकों की सुविधा-सुरक्षा व आए दिन हो रहे हादसों को देखते हुए जिला प्रशासन ने शहर के बीच भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित कर रखा है। लेकिन इस निर्देश का पालन नहीं हो पा रहा।

बिलासपुर. शहर के बीच भारी वाहनों को प्रतिबंधित किया गया है। फिर भी भारी वाहन शहर के बीच धड़ल्ले से दौड़ रहे, जिनसे लगातार हादसे हो रहे हैं। तिफरा ओवर ब्रिज पर सोमवार दोपहर भारी वाहन की टक्कर से जिला पंचायत सदस्य की मौत हो गई। इसके बावजूद भारी वाहनों के प्रवेश पर प्रतिबंध के आदेश का पालन नहीं हो सका। मंगलवार को भी भारी वाहन शहर के बीच से गुजरते रहे। यातायात व्यवस्था, नागरिकों की सुविधा-सुरक्षा व आए दिन हो रहे हादसों को देखते हुए जिला प्रशासन ने शहर के बीच भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित कर रखा है। लेकिन इस निर्देश का पालन नहीं हो पा रहा।

यातायात पुलिस इस पर अमल नहीं करवा पा रही है। भारी वाहनों के लिए बाइपास सड़कें भ्भी बनाई गई हैं, फिर भी बड़ी गाडिय़ां कोनी, महामाया चौक, नेहरू चौक, राजीव गांधी चौक और महाराणा प्रताप चौक से गुजर रही हैं। यही अनदेखी सोमवार को जनपद पंचायत सदस्य योगेश यादव की मौत की वजह बन गई। योगेश महाराणा प्रताप चौक के पास तिफरा ओवर ब्रिज पर भारी वाहन की चपेट में आ गए। आरोपी वाहन चालक व उसके हैवी वाहन की रफ्तार ऐसी कि पुलिस उसे पकड़ तक नहीं सकी।

आवश्यक वस्तुओं के वाहनों को सिर्फ चार घंटे की छूट

जिला प्रशासन ने जनता से जुड़ी आवश्यक वस्तुएं, फल, सब्जी, दूध, पीडीएस के अनाज, पेट्रोल व डीजल की आपूर्ति करने वाले टैेंकरों को शहर के भीतर सुबह 11 बजे से 3 बजे तक प्रवेश की अनुमति दी थी। लेकिन इस बीच दूसरी निजी गाडिय़ां भी भीतर आ रही हैं।

कोर्ट के निर्देश पर नहीं हो रहा अमल

यातायात की दृष्टि से शहर के बीच महामाया चौक, मंदिर चौक, महाराणा प्रताप चौक को डेंजर जोन माना जाता है। इस रूट पर अधिकांश हादसे इन्हीं चौक चौराहों के आसपास होते हैं। आए दिन हो रहे हादसों को देखते हुए हाईकोर्ट ने भी निर्देश दिए थे, जिसके बाद सुबह 6 बजे से रात 11 बजे तक शहर में भारी वाहनों के प्रवेश पर पाबंदी लगाई थी। लेकिन इस पर अमल नहीं हो पा रहा।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???