Patrika Hindi News

स्मोकिंग छुड़वाने में मददगार हैं ये घरेलू नुस्खे

Updated: IST smoking
सिगरेट, बीड़ी या तंबाकू छोडऩे के लिए मजबूत इरादे व सख्त कदम उठाने पड़ सकते हैं। यहां कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताया जा रहा है जो हमारी रसोई की मसालेदानी में होती हैं।

अंग्रेजी में एक कहावत है 'ओल्ड हैबिट डाय हार्ड' यानी पुरानी आदतें मुश्किल से जाती हैं। लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि बुरी लत छोड़ी नहीं जा सकती।

सिगरेट, बीड़ी या तंबाकू छोडऩे के लिए मजबूत इरादे व सख्त कदम उठाने पड़ सकते हैं। यहां कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताया जा रहा है जो हमारी रसोई की मसालेदानी में होती हैं। पूरी इच्छाशक्ति के साथ इन उपायों को आजमाने की कोशिश करेंगे तो नतीजा अच्छा ही रहेगा।

1- जब भी धूम्रपान की तलब ह ो तो बारीक सौंफ के साथ मिश्री मिलाकर धीरे-धीरे चूसें, नरम हो जाने पर चबाकर खाएं।

2- अजवाइन, नींबू का रस व काला नमक दो दिन तक भीगने दें। इसे छाया में सुखाकर रख लें और धूम्रपान की बजाय इसे चूसें।

3- छोटी हरड़ को नींबू के रस व सेंधा नमक के घोल में दो दिन तक फूलने दें। इसे निकालकर छाया में सुखाकर शीशी में भर लें। स्मोकिंग का मन करे तो इसे चूसें व नरम हो जाने पर चबाकर खा लें।

4- धीरे-धीरे तंबाकू खाने की आदत को कम करें क्योंकि रक्त में निकोटिन के स्तर को क्रमश: ही कम किया जाना चाहिए। इसके लिए निकोटिन च्यूइंगम एक बेहतर विकल्प हो सकती है।

5- जब भी सिगरेट या तंबाकू आदि की तलब हो तो इलायची या मुलैठी का प्रयोग कर सकते हैं। मुलैठी को नेचुरल च्यूंइगम माना गया है। यह आंतों में जाकर रक्त में मिलती है तो फेफड़ों से बलगम को निकालकर उन्हें खोलने का काम करती है। इससे सांस संबंधी परेशानियां भी दूर होती हैं।

6- इलायची, काली मिर्च, मुलैठी और सौंफ को दरदरा कूटकर या पीसकर सिगरेट या बीड़ी के खोल में भरकर स्मोक कर सकते हैं। हालांकि इसका कोई खास फायदा नहीं होता लेकिन इस तरह सिगरेट छोडऩे का मन बना रहे लोगों में इसकी तलब को कम किया जा सकता है।

व्यायाम से भी होगा लाभ
ऐसी आदतें व्यक्ति तभी छोड़ पाता है जब उसका दिमाग पूरी तरह से स्थिर हो और वह किसी भी प्रकार के तनाव में न हो। इसके लिए प्राणायाम, अनुलोम -विलोम, मेडिटेशन और शवासन करना चाहिए।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???