Patrika Hindi News

एफडीआई 8 फीसदी बढ़कर 60.08 अरब डॉलर पहुंचा, घटा विदेशी पूंजी भंडार 

Updated: IST fdi
सरकार की नीतिगत सुधारों के कारण देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 8 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई और यह 60.08 अरब डॉलर की नई ऊंचाई पर पहुंच गई।

नई दिल्ली: सरकार की नीतिगत सुधारों के कारण देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 8 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई और यह 60.08 अरब डॉलर की नई ऊंचाई पर पहुंच गई। सरकार ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 5 अरब डॉलर की वृद्धि
वाणिज्य मंत्रालय ने यहां एक बयान में कहा कि वित्त वर्ष 2016-17 में एफडीआई में 8 फीसदी की वृद्धि हुई और यह 60.08 अरब डॉलर रही, जबकि पिछले साल यह 55.56 अरब डॉलर थी। इससे पहले वित्त वर्ष 2015-16 में एफडीआई सबसे ज्यादा दर्ज की गई थी। इसमें कहा गया कि एफडीआई में वृद्धि का मुख्य कारण सरकार द्वारा एफडीआई व्यवस्था को व्यावहारिक बनाने के लिए किए गए साहसिक नीतिगत सुधार है।

व्यापार में दी गई छूट से FDI में बढ़ोतरी
मंत्रालय ने कहा कि एफडीआई नीति में बदलाव तथा विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) द्वारा मंजूरी की सीमा में वृद्धि तथा देश में व्यापार में आसानी नीति को बढ़ावा देने से एफडीआई में बढ़ोतरी हुई है।
इसमें कहा गया है कि एफडीआई इक्विटी प्रवाह वित्त वर्ष 2016-17 में 43.48 अरब डॉलर रहा, किसी एक वित्त वर्ष में यह सर्वाधिक है।

देश का विदेशी पूंजी भंडार घटकर 44.36 करोड़ डॉलर हुआ
देश का विदेशी पूंजी भंडार 19 मई को समाप्त सप्ताह में 44.36 करोड़ डॉलर घटकर 375.274 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो 24,125.7 अरब रुपये के बराबर है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से शुक्रवार को जारी साप्ताहिक आंकड़े के अनुसार, विदेशी पूंजी भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा भंडार इस सप्ताह में 42.94 करोड़ डॉलर घटकर 351.101 अरब डॉलर हो गया, जो 22,573.1 अरब रुपये के बराबर है।

बैंक के मुताबिक, विदेशी मुद्रा भंडार को डॉलर में व्यक्त किया जाता है और इस पर भंडार में मौजूद पाउंड, स्टर्लिंग, येन जैसी अंतर्राष्ट्रीय मुद्राओं के मूल्यों में होने वाले उतार-चढ़ाव का सीधा असर पड़ता है। वर्तमान में देश का स्वर्ण भंडार बिना किसी बदलाव के 20.438 अरब डॉलर रहा, जो 1,312.5 अरब रुपये के बराबर है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में भी घटा देश का मौजूदा भंडार
इस दौरान देश के विशेष निकासी अधिकार (एसडीआर) का मूल्य 55 लाख डॉलर बढ़कर 1.454 अरब डॉलर हो गया, जो 93.5 अरब रुपये के बराबर है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में देश के मौजूदा भंडार का मूल्य 87 लाख डॉलर घटकर 2.28 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो 146.6 अरब रुपये के बराबर है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???