Patrika Hindi News

एशिया ग्लोबल डेवलपमेंट का करेगा नेतृत्व, 7.7% होगी भारत की विकास दर: IMF

Updated: IST IMFsays asia lead to global devlopment
अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा कि एशिया प्रशांत क्षेत्र वैश्विक विकास का नेतृत्व करता रहेगा। साथ ही IMF ने कहा कि भारत इकनॉमिक ग्रोथ तेजी से बढ़ रहा है और साल 2017-18 में यह 7.7 तक पहुंच जाएगा।

टोक्यो: अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा कि एशिया प्रशांत क्षेत्र वैश्विक विकास का नेतृत्व करता रहेगा। हालांकि आईएमएफ ने चेतावनी दी कि संरक्षणवाद और उम्रदराज लोगों की बढ़ती आबादी के कारण उत्पादकता के मिड टर्म में गिरावट आ सकती है। आईएमएफ ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट प्रीपेयरिंग फॉर चॉपी सीस के प्रदर्शन के दौरान कहा कि इस क्षेत्र में मजबूत आर्थिक परिप्रेक्ष्य है, जिसके कारण इसकी वृद्धि दर साल 2017 में 5.5 फीसदी और साल 2018 में 5.3 फीसदी रहने की उम्मीद है।

भारत में साल 2017-18 में 7.7 % विकास दर
इंटरनेशनल मॉनिट्री फंड (IMF) ने कहा है कि इंडियन इकोनॉमी फाइनें‍शियल ईयर 2017-18 में 7.2 फीसदी और 2018-19 में 7.7 फीसदी की दर से ग्रोथ करेगी। आईएमएफ ने यह भी माना कि नोटबंदी का असर धीरे-धीरे 2017 में ही खत्‍म हो जाएगा और इसके असर सिर्फ तात्‍कालिक ही होंगे। IMF ने कहा कि बेहतर मानसून भी इसमें मददगार साबित होंगे। सप्लाई साइड की सम्स्याएं जल्द खत्म होगी।

इस क्षेत्र में विकास का संकेत उत्साह जनक- आईएमएफ
आईएमएफ के एशिया और प्रशांत विभाग के निदेशक चांगयोंग री ने एक बयान में कहा, "अब तक इस क्षेत्र में विकास का संकेत उत्साहजनक रहा है। नीतिगत चुनौती इस गति को मजबूत करने तथा बनाए रखने की है।"

2018 में 3.6 फीसदी रहने का अनुमान
समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, 2016 के 3.1 फीसदी के मुकाबले इस क्षेत्र के नतीजे साल 2017 में 3.5 फीसदी और 2018 में 3.6 फीसदी रहने का अनुमान है, जो वैश्विक औसत से अधिक है।

चीन के विकास में गिरावट के आसार
आईएमएफ ने चीन में थोड़ी गिरावट का अनुमान लगाया है और कहा कि साल 2017 में चीन की विकास दर 6.6 फीसदी और साल 2018 में 6.2 फीसदी रहेगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???