Patrika Hindi News

पाकिस्तान के विदेशी कर्ज बढ़ने पर मूडीज की चेतावनी, सरकार के सामने कई चुनौतियां 

Updated: IST moddy
ग्लोबल क्रेडिट रेटिंग करने वाली एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने आशंका जाहिर की है कि पाकिस्तान का विदेशी कर्ज तेजी से बढ़ रहा है और जून तक यह 79 बिलियन डॉलर (5.10 लाख करोड़ रुपए) को पार कर जाएगा। मूडीज ने कहा कि सरकार के सामने कई चुनौतियां है।

इस्लामाबाद: ग्लोबल क्रेडिट रेटिंग करने वाली एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने आशंका जाहिर की है कि पाकिस्तान का विदेशी कर्ज तेजी से बढ़ रहा है और जून तक यह 79 बिलियन डॉलर (5.10 लाख करोड़ रुपए) को पार कर जाएगा। एजेंसी ने कहा कि ये पहले के अनुमानों से कही ज्यादा है। सोमवार को मूडीज ने पाकिस्तान को उसके बढ़ते विदेशी कर्ज पर चेतावनी देते हुए यह जानकारी दी।

पाक सरकार के सामने कई चुनौतियां-रिपोर्ट
डेली टाइम्स ने मूडीज कि रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि पाकिस्तान के सामने जो चुनौतियां हैं उसमें सरकार पर कर्ज का बढ़ता बोझ, कमजोर इंफ्रास्ट्रक्चर, नाजुक विदेशी कर्ज भुगतान करने की स्थिति और भारी राजनीतिक खतरा है। इस वित्त वर्ष 2016-17 के अंत तक पाकिस्तान का विदेशी कर्ज बढ़ कर 79 बिलियन डॉलर तक पहुंचा जाएगा। जिसमें पब्लिक सेक्टर की 77.7 बिलियन डॉलर की हिस्सेदारी होगी।

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के अनुमान से ज्यादा बढ़ा कर्ज
पाकिस्तान पर बढ़ते कर्ज का यह अनुमान स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान द्वारा जारी डेटा के आधार पर किए पूर्वानुमानों से काफी ज्यादा है। पाकिस्तान के स्टेट बैंक ने दिसंबर 2016 के अंत तक कर्जे के 74.2 बिलियन डॉलर पर रहने का अनुमान लगाया था। जिसमें 64.5 बिलियन डॉलर का बाहरी कर्ज शामिल था।

पाक का बाहरी कर्ज 14 बिलियन डॉलर बढ़ा
मूडीज ने इससे पहले 2013 में पाकिस्तान पर बाहरी कर्जा 64.4 बिलियन डॉलर होने का अनुमान लगाया था। अगर ताजा अनुमान पर ध्यान दें तो पाकिस्तान का बाहरी कर्जा पिछले चार सालों में 14.6 बिलियन डॉलर बढ़ा है। मूडीज ने पाकिस्तान की लोन लेने की क्षमता को नेगेटिव रखते हुए 'बहुत कम' श्रेणी में रखा है। जिस कारण लोन लेने की क्षमता में रुकावटों के साथ कर्ज का बोझ भी बढ़ा है।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???