> >

ऑल्टो, क्विड, स्विफ्ट, टिआगो कार हो सकती है महंगी, ये है बड़ी वजह

Updated: IST Alto-kwid
नए नियमों के अनुसार सभी तरह की कारों पर 28 प्रतिशत का यूनीफॉर्म टैक्स रेट फिक्स किया गया है, इनमें छोटी कारें भी शामिल है

नई दिल्ली। वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने गुरुवार को 1,211 वस्तुओं पर करों की दर निर्धारित कर ली है। जीएसटी काउंसिल की द्वारा तय की गई रेट का ऑटो इंडस्ट्री पर निगेटिव असर पड़ सकता है। नए नियमों के अनुसार सभी तरह की कारों पर 28 प्रतिशत का यूनीफॉर्म टैक्स रेट फिक्स किया गया है, इनमें छोटी कारें भी शामिल है। साथ ही इन कारों पर 1 से 3त्न तक सेस भी लगाया जाएगा।

एसयूवी, सेडान की कीमतों हो सकती है कटौती
आटो एक्सपर्ट का मानना है कि सरकार के इस कदम से छोटी कारों की कीमतों में इजाफा हो सकता है, वहीं दूसरी ओर एसयूवी, सेडान और लग्जरी कारों की कीमतों में कटौती भी हो सकती है। मौजूदा टैक्स रेट के मुताबिक, अभी छोटी कारों पर 12.5%एक्साइज टैक्स और 14.5%तक वैट लगता है, यानि कुल 27% टैक्स चुकाना होता है। जीएसटी लागू होने की स्थिति में 28%टैक्स के साथ छोटी कारों पर 1-3%का सेस लगेगा। कुल मिलाकर छोटी कारों पर कुल टैक्स 29%से लेकर 31%के बीच लगेगा। इससे कारों की कॉस्ट बढ़ जाएगा, जिसकी भरपाई कार कंपनियां कीमतें बढ़ाकर कर सकती हैं।

इन कारों पर पड़ेगा बढ़े हुए टैक्स का असर
टैक्स रेट में बढ़ोतरी होने से ऑल्टो, क्विड, स्विफ्ट, टिआगो और इऑन जैसी कारों की कीमतों में बढ़ोतरी हो सकती है। एक ओर जहां छोटी कारों की कीमतों में वृद्धि होने के अुनमान है वहीं टैक्स रेट बढऩे एसयूवी, सेडान और लग्जरी कारें खरीदने वाले कस्टमर्स को फायदा भी हो सकता है। ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि ये कारें भी अब 28%यूनीफार्म रेट के दायरे में आएंगी। जिन पर 15%सेस लगेगा। इन सबके बावजूद इन पर मौजूदा टैक्स की तुलना में कम टैक्स लगेगा। ऐसे में कंपनियां कीमतें कटौती कर सकती है।

आपको बता दें वर्तमान में 1500सीसी से ज्यादा क्षमता के इंजन वाली कारों पर 41.5%से 44.5%टैक्स लगता है। लेकिन जीएसटी लागू होने के बाद इन कारों पर 43%के करीब टैक्स लगेगा, जो कि मौजूदा टैक्स से कम होगा। टैक्स कम होने की सूरत में कार कंपनियों कीमतें घटा सकती हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???