Patrika Hindi News

पहली ही बैठक में नरम पड़े जाटों के तेवर, मुख्यमंत्री से होगी मुलाकात

Updated: IST jat agitation in haryana

चंडीगढ़। हरियाणा के संसदीय कार्य मंत्री रामबिलास शर्मा प्रदेश सरकार के संकटमोचक के रूप में सामने आ गए हैं। असंतुष्ट विधायकों की लॉबिंग के चलते सवालों के घेरे में चल रहे रामबिलास शर्मा ने पहली बार अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समीति के सदस्यों से मुलाकात की और उन्हें शुक्रवार को मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के साथ बैठक के लिए राजी कर लिया है।

बैठक को जाट समुदाय के लोग जहां सकारात्मक करार दे रहे हैं वहीं सरकारी सूत्रों का दावा है कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद जाटों द्वारा हरियाणा में चल रहे धरने उठा लिए जाएंगे। हरियाणा में जाट समुदाय के लोग बीती 29 जनवरी से आरक्षण की मांग को लेकर प्रदेश में धरने दे रहे हैं। हरियाणा सरकार ने जाटों की मांगों का समाधान करने के लिए मुख्य सचिव डीएस ढेसी की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया था। जाटों ने अधिकारियों की इस कमेटी के साथ दो बैठकें करने के बाद बातचीत को आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया था।

जाट समुदाय के लोग जेलों में बंद युवाओं को रिहा करने, दर्ज मुकदमें खारिज करने समेत कई मांगों पर अड़े हुए थे। जाटों ने आगामी 20 मार्च को दिल्ली कूच का ऐलान कर रखा है। जाटों के इस ऐलान पर गंभीर हुई केंद्र सरकार ने हरियाणा सरकार को जल्द से जल्द इस मामले का निपटारा करने के निर्देश दिए हैं। जिसके चलते बुधवार को हरियाणा सरकार ने संसदीय कार्य मंत्री रामबिलास शर्मा, राज्य मंत्री कृष्ण बेदी तथा मुख्य संसदीय सचिव कमल गुप्ता पर आधारित एक कमेटी का गठन किया था। इस कमेटी ने आज पानीपत में जाट नेता यशपाल मलिक व उनकी टीम के सदस्यों के साथ बैठक की। इस बैठक के बाद जाट समुदाय के प्रतिनिधि नरम पड़ते दिखाई दिए।

यशपाल मलिक ने बैठक को पूरी तरह से सकरात्मक करार देते हुए कहा कि सरकारी कमेटी के साथ कई मामलों में सहमति बन गई है। प्रदेश में चल रहे धरनों को समाप्त करने के विषय पर शुक्रवार को दिल्ली में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के साथ मुलाकात की जाएगी। यशपाल मलिक ने कहा कि मुख्यमंत्री के साथ बातचीत के बाद ही साझा प्रेस कान्फ्रैंस में धरनों के संबंध में कोई घोषणा की जाएगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???