Patrika Hindi News

> > > > Forfeit of ten thousand rules considered

नियम नहीं माना तो दस हजार का अर्थदंड

Updated: IST chhindwara
गणेशोत्सव के दौरान डीजे संचालक को नियम नहीं मानना महंगा पड़ गया। पुलिस ने कोलाहल अधिनियम की धाराओं में डीजे जब्त किया था।

छिंदवाड़ा. गणेशोत्सव के दौरान डीजे संचालक को नियम नहीं मानना महंगा पड़ गया। पुलिस ने कोलाहल अधिनियम की धाराओं में डीजे जब्त किया था। पिछले दिनों अपराध का चालान न्यायालय में पेश किया। डीजे संचालक और उसकी सामग्री दस हजार रुपए के जमानत मुचलके पर छोड़ी। अभी इस मामले में जांच और पूछताछ की जा रही है। बताया जा रहा है कि डीजे के संचालक ने अनुमति भी नहीं ली थी, इसकी अलग से कार्रवाई की जाएगी।

परासिया रोड स्थित षष्ठी माता मंदिर के पास दस सितम्बर की देर रात तक तेज आवाज में डीजे बज रहा था। आस-पास के लोगों की सूचना पर डीजे जब्त कर कोतवाली थाना लाया गया था। परासिया वार्ड क्रमांक तीन के निवासी और डीजे संचालक असीम पिता समीखान के खिलाफ कोलाहल अधिनियम की धाराओं में मामला पंजीबद्ध किया गया था। पिछले दिनों आरोपी को हिरासत में लेकर चालान न्यायालय में पेश किया गया, यहां से उसे दस हजार रुपए के जमानत मुचके पर छोड़ा गया था। फिलहाल असीम खान ने डीजे बजाने की अनुमति कहां से ली थी इससे संबंधित पत्र भी जमा नहीं किया है, इसके चलते आगे की जांच अभी की जा रही है।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की लापरवाही

शहर में उत्सव के दौरान नियमों का उल्लंघन करने वाले डीजे सहित अन्य साउंड सिस्टम का अभी तक प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सेंपल नहीं लिया है। गणेशोत्सव के दौरान ध्वनि प्रदूषण मापने पुलिस ने एक टीम बनाई थी जिसमें प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी भी शामिल थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार टीम तो बनाई गई, लेकिन प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों और कर्मचारियों ने इसमें किसी प्रकार का सहयोग नहीं किया जिसके चलते नियमों का उल्लंघन करने के बाद भी कई डीजे संचालकों पर कार्रवाई नहीं हो पाई।

एक सेम्पल लिया

गणेशोत्सव में पुलिस के कहने पर एक सेम्पल लिया था। ध्वनि प्रदूषण अधिक था जिसकी जानकारी विभाग को भेजेंगे।

-सुनील श्रीवास्तव, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

दस हजार का अर्थदंड

डीजे संचालक पर कोलाहल अधिनियम की धाराओं में मामला पंजीबद्ध कर चालान न्यायालय में पेश किया था, न्यायालय से उसे दस हजार रुपए के जमानत मुचलके पर छोड़ा गया है।

-शिवेश सिंह बघेल, सीएसपी, छिंदवाड़ा

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे