Patrika Hindi News

> > > > Seniors quota

अब ट्रेन के प्रत्येक कोच में वरिष्ठ नागरिकों व महिलाओं को छह बर्थ आरक्षित

Updated: IST chhindwara
देश के सभी ट्रेनों के आरक्षित कोच में एक सितम्बर से वरिष्ठ नागरिकों का कोटा बढ़ गया है। अब उनके लिए प्रति कोच स्लीपर में छह व एसी द्वितीय व तृतीय में तीन बर्थ मिलेंगे।

अखिलेश ठाकुर. छिंदवाड़ा. देश के सभी ट्रेनों के आरक्षित कोच में एक सितम्बर से वरिष्ठ नागरिकों का कोटा बढ़ गया है। अब उनके लिए प्रति कोच स्लीपर में छह व एसी द्वितीय व तृतीय में तीन बर्थ मिलेंगे। भारत सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए इस साल दो बार आरक्षित कोटा में बढोतरी कर सौगात दी है। एक सितम्बर से लागू इस आदेश पर गौर करें तो वरिष्ठ नागरिकों के लिए आरक्षित किए गए सभी बर्थ लोवर हैं। ट्रेनों में बढ़ रही भीड़ के बीच इसकी शुरुआत से उनको काफी सहुलियत मिली है।

भारत सरकार ने वर्ष 2007 से वरिष्ठ नागरिकों को ट्रेनों में कोटा आरक्षित करने की शुरुआत की। उस समय एसी द्वितीय व तृतीय तथा स्लीपर में प्रति कोच दो बर्थ मिल रहे थे। नौ साल बाद एक जनवरी 2016 को स्लीपर में प्रति कोच दो बर्थ बढ़ाया गया। इसके आठ माह बाद सितम्बर में फिर नया परिवर्तन कर एसी द्वितीय व तृतीय में प्रति कोच तीन व स्लीपर में प्रति कोच छह बर्थ कर दिया गया है।

45 वर्ष से शुरू होगी महिलाओं की पात्रता

वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक सितम्बर से लागू आरक्षित बर्थ का लाभ महिलाओं के लिए 45 वर्ष से शुरू होगी। पुरुष के लिए 60 वर्ष उम्र निर्धारित किया गया है। एक टिकट पर केवल दो लोगों को इस आरक्षण का लाभ मिलेगा।

एेसे बढ़ा कोटा

एक अगस्त 2007 - एसी द्वितीय व तृतीय प्रति कोच में दो बर्थ। स्लीपर प्रति कोच दो बर्थ।

एक जनवरी 2016 - एसी द्वितीय व तृतीय प्रति कोच में दो बर्थ। स्लीपर प्रति कोच चार बर्थ।

एक सितम्बर 2016 - एसी द्वितीय व तृतीय प्रति कोच में तीन बर्थ। स्लीपर प्रति कोच छह बर्थ।

छिंदवाड़ा से नईदिल्ली जाने वाली पातालकोट एक्सप्रेस

एसी द्वितीय - एक कोच

एसी तृतीय - एक कोच

स्लीपर - पांच कोच

छिंदवाड़ा से इंदौर जाने वाली पेंचवैली फॉस्ट पैसेंजर -

एसी तृतीय - एक कोच

स्लीपर - तीन कोच (एक अमृतसर कोच सहित)

आरक्षित बर्थ में वृद्धि

वरिष्ठ नागरिकों के लिए रेलवे ने एसी द्वितीय व तृतीय तथा स्लीपर में प्रति कोच तीन व छह बर्थ आरक्षित किया है। यह आदेश एक सितम्बर से देश के सभी ट्रेनों में लागू है। इस साल दूसरी बार वरिष्ठ नागरिकों के लिए आरक्षित बर्थ में वृद्धि की गई है।

अर्जुन सिब्बल, सीनियर डीसीएम दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे नागपुर मंडल

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे