Patrika Hindi News

शेयर बाजारों ने किया आगाह, 363 कंपनियों के शेयरों में है जोखिम

Updated: IST share market
निवेशकों के हित में कदम उठाते हुए बंबई शेयर बाजार और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने सदस्यों को कम कारोबार वाले 363 कंपनियों के शेयरों में सौदों को लेकर आगाह किया है। ऐसे शेयरों से निवेशकों को जोखिम है, क्योंकि उसके लिए बार-बार सौदा होने वाले शेयरों की तुलना में खरीदार तलाशना मुश्किल है। दोनों एक्सचेंजों ने एक जैसे परिपत्रों में सलाह दी है कि वे इन प्रतिभूतियों में कारोबार से पहले पूरी जांच-पड़ताल कर लें।

नई दिल्ली. निवेशकों के हित में कदम उठाते हुए बंबई शेयर बाजार और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने सदस्यों को कम कारोबार वाले 363 कंपनियों के शेयरों में सौदों को लेकर आगाह किया है। ऐसे शेयरों से निवेशकों को जोखिम है, क्योंकि उसके लिए बार-बार सौदा होने वाले शेयरों की तुलना में खरीदार तलाशना मुश्किल है। दोनों एक्सचेंजों ने एक जैसे परिपत्रों में सलाह दी है कि वे इन प्रतिभूतियों में कारोबार से पहले पूरी जांच-पड़ताल कर लें।

बीएसई तथा एनएसई ने कम कारोबार वाले क्रमश: 339 और 24 कंपनी शेयरों की पहचान की है, जहां अतिरिक्त जांच-पड़ताल की आवश्यकता है। ऐसे शेयरों में कैलिफोर्निया सॉफ्टवेयर कंपनी, सुराना कॉरपोरेशन, उष्रा मार्टिन एजुकेशन एंड सोल्यूशंस, जेनिथ बिड़ला इंडिया लि., द आनंदम रबड़ कंपनी, साइबर मीडिया इंडिया, विसु इंटरनेशनल एंड डायनाकोन्स सिस्टम एंड सोल्यूशंस शामिल हैं।

वैश्विक रुख से सेंसेक्स धड़ाम
सीरिया के सैन्य हवाईअड्डों पर अमेरिका द्वारा क्रूज मिसाइल से हमला किए जाने की घटना से भू-राजनैतिक स्तर पर मची उथल-पुथल से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निवेशकों की धारणा कमजोर हुई है, जिसका असर शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार पर भी पड़ा और यह लगातार दूसरे दिन गिरावट में बंद हुआ।

वैश्विक दबाव के साथ ही स्वास्थ्य, धातु और रियल्टी समेत 17 समूहों में बिकवाली होने से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 0.74 प्रतिशत यानी 220.73 अंक की गिरावट के साथ 29,706.61 अंक पर बंद हुआ। आज बिकवाली का दौर रहा। बीएसई में शामिल स्वास्थ्य, धातु, और रियल्टी समेत 17 समूह गिरावट में रहे। सेंसेक्स की 30 में से 27 कंपनियां लाल निशान में बंद हुईं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???