Patrika Hindi News

हमारे खिलाड़ियों की बेईज्जती ना करें BCCI: गुहा

Updated: IST Ramchandra guha
गुहा ने ट्वीटर पर लिखा कि द्रविड़, कुंबले जहीर क्रिकेट खेल के अग्रदूत हैं और ये बहुत सम्मान के हकदार हैं। ये खिलाड़ी मैदान पर वाकाई महान हैं। सार्वजनिक रूप से इनका अपमान करना सही नहीं है।

नई दिल्ली :इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने एक बार फिर क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ऑफ इंडिया (BCCI) को फटकार लगाई है। रामचंद्र गुहा ने बीसीसीआई से कहा कि बोर्ड बार-बार राहुल द्रविड़, अनिल कुबंले और जहीर खान को अपमान नहीं करें। गुहा ने अपने ट्विटर पर लिखते हुए कहा की जिस तरीके से टीम के स्टाफ के लिए द्रविड़ और ज़हीर की नियुक्ति को रोका है वो उनके सार्वजनिक अपमान के जैसा है। गुहा अपने ट्विटर में यहीं नहीं रुके उन्होंने अनिल कुंबले के साथ किए गए व्यवहार पर आपत्ति जताई है ।

ये खिलाड़ी सार्वजनिक अपमान योग्य नहीं-गुहा
गुहा ने ट्वीटर पर लिखा कि द्रविड़, कुंबले जहीर क्रिकेट खेल के अग्रदूत हैं और ये बहुत सम्मान के हकदार हैं। ये खिलाड़ी मैदान पर वाकाई महान हैं। सार्वजनिक रूप से इनका अपमान करना सही नहीं है। गौरतलब है कि रामचंद्र गुहा की यह टिप्पणी रवि शास्त्री के कोच पद पर नियुक्ति के बाद आई है। दरअसल बीसीसीआई ने पहले तो द्रविड़ और जहीर के नाम की घोषणा की थी। लेकिन बाद में फिर बोर्ड ने अपना बयान वापस ले लिया था।

गुहा का सीओए से इस्तीफा
'सपॉर्ट स्टाफ की नियुक्ति मुख्य कोच के सलाह के बाद की जाएगी। गुहा ने सीओए से 'सुपरस्टार कल्चर' को निशाना बनाते हुए सीओए से इस्तीफा दे दिया था। इसके साथ ही गुहा ने पूर्व खिलाड़ियों के हितों के टकराव पर भी सवाल उठाया था।रामचंद्र गुहा सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति के एक सदस्य थे। पिछले दिनों सुपरस्टार कल्चर का आरोप लगाते हुए उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया था।

गुहा लिख चुके हैं क्रिकेट पर कई किताबें
बता दें कि रामचन्द्र गुहा प्रसिद्द इतिहासकार हैं जिन्होंने क्रिकेट पर बहुत शानदार किताब "द स्टेट ऑफ इंडियन क्रिकेट " और स्पिन और अदर टर्न्स इन इंडियन क्रिकेट जैसी किताब लिखी जो क्रिकेट की बेहतर जानकारी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???