Patrika Hindi News

भारत क्रिकेट को लेकर कर रहा राजनीति : शहरयार

Updated: IST Shahryar Khan
शहरयार ने अपनी संसद में भी इस मुद्दे को उठाया और कहा कि वह एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) की आगामी बैठक में इस मुद्दे को जरूर उठाएंगे।

कराची। भारतीय क्रिकेट बोर्ड से लगातार क्रिकेट खेलने के लिए गुहार लगाने वाले पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष शहरयार खान ने भारत पर क्रिकेट को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाया है। शहरयार ने साथ ही कहा है कि पाकिस्तान पड़ोसी देश के साथ क्रिकेट खेलने के लिए भीख नहीं मांग रहा है।

पाकिस्तान लगातार मांग कर रहा है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को 2015 से 2023 तक छह क्रिकेट सीरीज खेलने के लिए किए गए करार का सम्मान करना चाहिए। हालांकि सीमा पर दोनों देशों के बीच चरम पर पहुंच चुके तनाव के बीच भारतीय बोर्ड पाकिस्तान के साथ क्रिकेट खेलने को लेकर तैयार नहीं है।

पाकिस्तानी अखबार डॉन के अनुसार, शहरयार ने अपनी संसद में भी इस मुद्दे को उठाया और कहा कि वह एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) की आगामी बैठक में इस मुद्दे को जरूर उठाएंगे। पीसीबी प्रमुख ने अखबार से कहा, दोनों देशों ने 2014 में एक एमओयू पर हस्ताक्षर किया था और इसलिये हमें द्विपक्षीय सीरीज खेलनी चाहिए।

उन्होंने कहा, पाकिस्तान इस मामले को एसीसी की अगली बैठक में जरूर उठाएगा। हमने अपने वकीलों से भी इस बाबत बातचीत कर ली है। एसीसी की बैठक विकास के मुद्दे पर होनी है, लेकिन इससे इतर हम भारत के साथ द्विपक्षीय सीरीज को लेकर बात करेंगे। एसीसी की बैठक कोलंबो में 17 दिसंबर को होनी है, जिसकी अध्यक्षता शहरयार को करनी है। इसके अलावा पीसीबी के मुख्य कार्यकारी नजम सेठी और सुभान अहमद भी इसमें हिस्सा लेंगे।

भारत और पाकिस्तान के बीच 2008 मुंबई हमलों के बाद से क्रिकेट संबंध काफी प्रभावित हुए हैं। हालांकि पाकिस्तान ने सीमित ओवर सीरीज के लिए दिसंबर 2012 में भारत का दौरा किया था, लेकिन दोनों देशों के बीच 2007 के बाद से कोई टेस्ट नहीं खेला गया है। हाल ही में भारतीय बोर्ड ने पाकिस्तान की महिला टीम के साथ भी तीन मैचों की सीरीज रद्द कर दी थी, जिसके बाद आईसीसी ने भारतीय महिला टीम के छह अंक काट लिए थे।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???