Patrika Hindi News

STF ने 30 तमन्चे के साथ 2 हथियार तस्करों को किया गिरफ्तार

Updated: IST UPSTF
उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने मथुरा जिले के राया क्षेत्र से शुक्रवार को अन्तर्राज्यीय असलहा तस्कर गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया। एसटीएफ उनके पास से बड़ी संख्या में अवैध असलहे बरामद किए है ।

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने मथुरा जिले के राया क्षेत्र से शुक्रवार को अन्तर्राज्यीय असलहा तस्कर गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया। एसटीएफ उनके पास से बड़ी संख्या में अवैध असलहे बरामद किए है । एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित पाठक ने बताया कि राया इलाके से कार सवार अन्तर्राज्यीय असलहा तस्कर गिरोह के दो सक्रिय सदस्यों हाथरस निवासी मंगल सिंह और मथुरा निवासी अजीज उर्फ अजीत खान को गिरफ्तार कर उनके पास से 30 तमन्चे बरामद किए गए । उन्होंने बताया कि पिछले काफी दिनों से एसटीएफ को अन्तर्राज्यीय असलाह तस्कर गिरोह के सक्रिय होने की सूचनाएं प्राप्त हो रही थी। इस सम्बन्ध में एसटीएफ की विभिन्न टीमों को लगाया था ।

मुखबिर की सूचान पर की गई कार्रवाई
इसी क्रम में शुक्रवार को सूचना मिली कि कुछ असलहा तस्कर हाथरस के सिकन्द्राराउ से अवैध हथियार लेकर मथुरा के राया इलाके में रेलवे स्टेशन के पास किसी व्यक्ति को देने आ रहे हैं । पाठक ने बताया कि सूचना के बाद एसटीएफ की टीम ने बताए गए स्थान की घेराबन्दी की । इसी दौरान, एक मारूति कार में बैठे दो संदिग्ध लोग आपस में बातचीत करते दिखाई दिए। सूत्र द्वारा असलहा तस्कर गिरोह के सदस्य होने की पुष्टि किए जाने पर एसटीएफ ने आवश्यक बल प्रयोग करते हुए दोनों तस्करों को गिरफ्तार कर उनके पास से हथियार बरामद किए ।

1500 से 2000 में बेचे जाते हैं तमंचे
गिरफ्तार बदमाश मंगल सिंह ने पूछताछ में बताया कि उससे बरामद 30 अवैध तमंचे उसे झांसी निवासी देवेन्द्र नामक व्यक्ति सिकन्द्राराउ में देकर गया था। इसके बाद उसने अपने गिरोह के अजीज उर्फ अजीत खान को इन तमंचों को देने के लिए इण्डियन ओरवसीज बैंक के पास बुलाया था। देवेन्द्र उसे इस कार्य के लिए प्रति तमन्चा 1000 रुपए देता है। अजीज मथुरा एवं राजस्थान में इन तमंचों को 1500 से 2000 में बेच देता है। अजीज का भाई हारून मथुरा जेल में निरूद्धी के दौरान वर्ष-1999 में पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था, जिसकी गिरफ्तारी पर पुलिस महानिरीक्षक, आगरा जोन के स्तर से 15 हजार रूपए का पुरस्कार घोषित किया गया था। मंगल सिंह ने यह भी बताया कि उसके द्वारा इससे पूर्व 10 से अधिक बार अवैध असलहों की खेप लाई जा चुकी है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???