Patrika Hindi News

शिवलिंग के साथ 109 प्रतिमाएं विराजमान

Updated: IST 109 statues sits with Shivling
मप्र के दमोह जिले नोहटा में स्थित नोहलेश्वर मंदिर है कलचुरी कालीन की बेजोड़ शिल्प कला की जीवंत आकृति, गर्भगृह में नहीं होती है पूजा-अर्चना

राजेश कुमार पांडेय/ राकेश पलंदी दमोह. दमोह-जबलपुर हाइवे पर नोहटा स्कूल के बगल से स्थित कलचुरी कालीन नोहलेश्वर शिवमंदिर अदुभुत कला व साक्षात शिव की उपस्थिति का अनूठा उदाहरण है। इस मंदिर से कई सालों तक रात्रि 12 बजे के बाद पूर्णिमा व अमावस्या पर चमकदार रोशनी भी कई सालों तक बुजुर्गों ने देखी है, जो यह मानते रहे कि इच्छाधारी नाग-नागिन नागमणी लेकर शिव की आराधना करने पहुंचते हैं। तब से इस मंदिर की महत्ता बढ़ी हुई है।

पुरातत्ववेत्ता मानते हैं कि नोहटा में नवमीं शताब्दी मध्य कल्चुरी कालीन प्राचीन शिव मंदिर है। यह मंदिर शिल्पकला का बेजोड़ नमूना है। मंदिर की दीवारों के चारों ओर से पत्थर पर उकेरी गई सैकड़ों प्रतिमाएं हैं।

इतिहासकार इसका निर्माण 950-1000 ई.वी के आसपास का मानते हैं। कुछ लोगों के अनुसार इस मंदिर के निर्माण का काम चालुक्य वंश के कलचुरी राजा अवनी वर्मा की रानी ने कराया था। 10 वीं शताब्दी के कलचुरी साम्राज्य की स्थापत्य कला का एक बेजोड़ व महत्तवपूर्ण नमूना नोहलेश्वर मंदिर है। यह एक ऊंचें चबूतरे पर बना है। इसमें पंचरथ, गर्भगृह, अंतराल, मंडप व मुख मंडप आदि भाग है।

नोहलेश्वर मंदिर में शिवलिंग से सटी हुईं 109 प्रतिमाएं रखी हुईं हैं, जिसमें नोहटा मंदिर की 14 प्रतिमाएं हैं तो 95 प्रतिमाएं दमोह के फुटेरा तालाब सहित अन्य स्थानों से एकत्रित की गईं प्रतिमाएं शामिल हैं। जिसमें देवी देवताओं के अलावा जैन धर्म की प्रतिमाएं भी हैं। इन मंदिरों को संग्राहलय के अभाव में प्राचीन शिव जी के गर्भगृह में ही रखीं गई हैं।

नोहटा सरपंच रामप्रसाद राय ने संकीर्ण शिव मंदिर के गर्भगृह में रखी प्रतिमाओं का वहीं परिसर में संग्राहलय बनाने की मांग कई सालों से करते आ रहे हैं।

नोहलेश्वर मंदिर में पदस्थ पुरातत्व विभाग के कर्मचारी ने बताया कि मंदिर में 109 पुरातत्व महत्व की प्रतिमाएं रखी हैं। नोहलेश्वर मंदिर परिसर में प्रतिमाओं के लिए संग्रहालय बनाने का प्रस्ताव भोपाल भेजा गया है। यह मंदिर भोपाल पुरातत्व विभाग के अधीन है।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???