Patrika Hindi News

> > > > 4 days, 250 km stray pregnant woman for sonography

सोनोग्राफी के लिए 4 दिन, 250 किमी भटकी गर्भवती महिला, डॉक्टरों ने भगाया

Updated: IST
सात माह की गर्भवती महिला के साथ उसके जेठ ने की थी मारपीट,डॉक्टरों ने जताई थी शिशु को नुकसान की आशंका

जबलपुर। मेरा देश बदल रहा है... इसकी हकीकत देखना है तो आइए मध्यप्रदेश के दमोह जिला ले चलते हैं जहां मारपीट का शिकार एक गर्भंवती महिला 4 दिन से सोनोग्राफी के लिए भटक रही है। हटा से दमोह फिर सागर और फिर वापस दमोह से हटा तक की 250 किमी यात्रा करने के बावजूद उसकी सरकारी अस्पताल में सोनोग्राफी नहीं की गई जबकि डॉक्टरों ने गर्भं में पल रहे शिशु को नुकसान की आशंका जताई है और महिला की जान को खतरा बताया है।

यह है मामला
जानकारी के अनुसार गैसाबाद थानांतगज़्त केसरबाई नाम की 7 माह की गर्भंवती महिला के साथ उसके जेठ खिलान अहिरवार ने मारपीट की और उसके पेट पर लात मारी। जिससे उसका व गर्भ में पल रहे शिशु का जीवन संकट में आ गया। हटा अस्पताल के डॉक्टरों ने उसकी सोनोग्राफी कराने को कहा और जिला अस्पताल दमोह रेफर कर दिया। यहां सोनोग्राफी मशीन खराब होने के कारण उसे जिला अस्पताल सागर रेफर किया गया। सागर से उसे यह कह कर लौटा दिया गया कि मामला दमोह जिला का है अत: सोनोग्राफी वहीं से कराएं। वापस जिला अस्पताल दमोह आने पर यहां पदस्थ महिला डॉक्टर ने एक बार फिर सोनोग्राफी करने से मना कर दिया। पीडि़त महिला के साथ सोनोग्राफी कराने के लिए वर्षा सिंह नाम की महिला आरक्षक को भेजा गया था जिसने परेशान होकर एसपी तिलक सिंह को इस समस्या से अवगत कराया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे