Patrika Hindi News

> > > > heavy vehicle driving in a restricted area

प्रतिबंधित क्षेत्र से निकल रहे हैं भारी वाहन

Updated: IST Restricted area, traffic jams
यातायात पुलिस कर रही अनदेखा,शहर में भारी ट्रक निकलने की खबरें आए दिन आ रही हैं, लेकिन प्रतिबंधित क्षेत्र जहां स्कूल, कॉलेज, न्यायालय, शासकीय कार्यालय स्थित हैं, वहां से भारी वाहनों की आवाजाही बेरोकटोक हो रही है

दमोह। शहर में भारी ट्रक निकलने की खबरें आए दिन आ रही हैं, लेकिन प्रतिबंधित क्षेत्र जहां स्कूल, कॉलेज, न्यायालय, शासकीय कार्यालय स्थित हैं, वहां से भारी वाहनों की आवाजाही बेरोकटोक हो रही है। यातायात पुलिस द्वारा की जा रही अनदेखी से बड़ी दुर्घटनाओं का अंदेशा बनने लगा है।

एक्सीलेंस स्कूल, जेपीबी स्कूल, नवजागृति स्कूल की छुट्टी होने के दौरान ही शाम को दो भारी ट्रक स्टेडियम से जिला सत्र न्यायाधीश बंगला से शार्टकट रास्ते से निकल रहे थे। यह शार्टकट मार्ग भारी ट्रकों द्वारा पूरे दिन अपनाया जा रहा है। स्कूल लगने व छुट्टी होने के दौरान यही स्थिती बन रही है।

रमेश सींग का कहना है कि शहर में यातायात पुलिस की अनदेखी के कारण नो-एंट्री के दौरान भारी वाहनों का प्रवेश हो रहा है। स्टेडियम मोड़ से भारी ट्रक शार्टकट से निकल रहे हैं, इस मोड़ पर आए दिन स्कूल विद्यार्थियों और महिलाओं के साथ सड़क दुर्घटनाएं सामने आ रही हैं। यातायात पुलिसकर्मी थोड़े से लालच में बाहर के ट्रक चालकों को शार्टकट की राह दिखा देते हैं, जिससे अधिकांश ट्रक नो-एंटी में प्रतिबंधित क्षेत्रों में प्रवेश कर लोगों की परेशानी का सबब बनने के साथ ही ट्रैफिक जाम की स्थिति निर्मित कर रहे हैं।

विजय खरे का कहना है कि मुख्य बायपास से निकलने वाले ट्रकों को यातायात पुलिस के जवान ही शहर के शार्टकट रास्तों में प्रवेश करा रहे हैं। ट्रक ड्राइवर से बातचीत होने के बाद दोनों बायपास पर कुछ देर ट्रक खड़े रहते हैं फिर इशारा पाते ही शहर में प्रवेश कर जाते हैं।

सुशील चौबे का कहना है कि इस मामले में दिलचस्प तथ्य यह भी कि शहर में आने वाले परचून सहित अन्य सामग्री के थोक व्यवसायी रात में अनलोड कराने में असमर्थता जताते हैं। जिससे व्यवसायी अपनी गोदामों पर दिन में ही माल खाली कराते हैं। थोक व्यापारियों व यातायात पुलिस की मिली भगत से दिन में नो-एंट्री व प्रतिबंधित क्षेत्रों में भारी वाहनों की आवाजाही हो रही है। इसके अलावा 9 बजने से पहले रात्रि 8 बजे शहर के भीड़-भाड़ वाले रास्तों से ट्रकों का शहर में बड़ी संख्या में प्रवेश इसलिए कराया जा रहा है जिससे दुकानें बंद होने से पहले ही माल व्यापारी की गोदाम तक पहुंच जाए। इन स्थितियों के चलते संकीर्ण रास्तों पर भारी वाहनों की आवाजाही हो रही है।

ईवनिंग वॉक पर निकलने वाले सीनियर सिटीजन भी कई बार अपनी शिकायत दर्ज करा चुके हैं कि भारी वाहनों के कारण उनकी सैर में बाधा उत्पन्न होने के साथ ही डीजल का धुआं उनकी सेहत पर खासा असर डाल रहा है। इसके अलावा तेजगति से फर्राटा भरने वालों वाहनों से दुर्घटना की आशंका हरदम बनी रहती है।

इनका कहना है कि
यातायात पुलिस द्वारा नाकों पर सघन चैकिंग की जा रही है। स्टाफ की कमीं के कारण ट्रक ड्राइवर यदि शार्टकट रास्ते अपना रहे हैं तो उनके विरुद्ध चालानी कार्रवाई की जाएगी।
बीपी दुबे, प्रभारी यातायात पुलिस

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे