Patrika Hindi News

खस्ताहाल नहरों में कैसे रुकेगा पानी

Updated: IST madiado
सिंचाई विभाग ने नहीं दिया ध्यान तो किसानों को होगी परेशानी, कहीं क्षतिग्रस्त तो कहीं कच्ची नहरें

मडिय़ादो।पलेवा व सिंचाई के लिए किसानों को पानी उपलब्ध कराने बनाई नहरों की दुर्दशा खराब हो चुकी है। आगामी कुछ दिनों में इनमें पानी छोड़ा जाएगा। इससें किसानों को पर्याप्त पानी नहीं मिल पाएगा। इससे किसानों को पलेवा करने में परेशानी उठाना पड़ सकती है। कई जगहों पर नहर बनी ही नहीं है तो जहां बनी है,वहां की क्षतिग्रस्त हालत में पहुंच गई है।

ब्लॉक में पानी की समस्या को हल करने व किसानों को सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराने लाखों रुपये खर्च कर तालाब बना तो दिए गए , लेकिन इनमें निकलने वाली नहरों में पानी छोडऩे के के कारण रिसाव से यह पानी किसानों के खेतों में पहुंचने से पहले बेकार बह जाता है, जिसमें किसान परेशान होते है।

किसान पक्की नहर बनाने लंबे समय से मांग करते आ रहे हैं,इसके बावजूद सिंचाई विभाग ने इस तरह ध्यान नहीं दिया है। नहरों की दुर्दशा देखकर इस बार फिर किसानों को चिंता सताने लगी है। इसके बाद भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अगामी कुछ दिनों में खेतों की सिंचाई करने इन नहरों में पानी छोड़ा जाना है। इस दौरान भी समस्या पैदा होगी। रजपुरा-सेमरा के तालाब से निकली नहरें पूरी तरह कच्ची है। इन कच्ची नहरों में पानी छोडऩे से कई किसानों के खेतों तक पानी पहुंचने से पहले ही बर्बाद हो जाता है। जिससे किसानों में रोष है।

इस समस्या को लेकर किसान कई बार जनप्रतिनिधियों और प्रसाशनिक अधिकारियों को लिखित में मौखिक शिकायत कर चुके है । बर्धा के पवैया बाध में भी नहरों का रख रखाव नहीं होने के कारण किसान परेशान है कुछ ऐसा ही हाल तिगरा के समधन बाध का है। यहां के बांध में रिसाव के कारण बांध ङ्क्षसचाई में उपयोग से पहले 75 फीसदी खाली हो चुका है दूसरी ओर नहरे अपूर्ण होने से अंतिम छोर के खेतों पर पानी नहीं पहुंच पाता, जिससे किसान परेशान है।

बर्धा के पूर्व सरपंच प्रदीप गुप्ता का कहना है यहां के तालाब में भी रिसाव के साथ-साथ नहरें भी रिसती हैं, जिससे किसानों को लाभ नहीं मिल पाती है, अंतिम छोर के किसानों को तो पानी मिल ही नहीं पाता जो परेशानी का कारण बनता है। जबकि, जिन नहरों में कटाव हुआ है, वहां 30 अक्टूबर तक मरम्मत कराने के साथ ही नहरों में सफाई और आवश्यक रख-रखाव कराने के जल संसाधन विभाग को कलेक्टर श्रीनिवास शर्मा द्वारा 13 अक्टूबर को जिला जल उपयोगिता समिति की बैठक में निर्देश दिए है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
More From Damoh
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???