Patrika Hindi News

शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मिलीभगत कर हथिया ली स्कूलों की मान्यता

Updated: IST dhamtari school
पूरा शिक्षण सत्र निकलने को है, लेकिन अब तक कई निजी स्कूलों में मापदंडों के आधार पर सुविधाएं नहीं जुटाई जा सकी हैं,लेकिन अधिकांश स्कूल संचालकों ने सुविधाएं जुटाने में रूचि नहीं दिखाई। इसके बाद भी इन स्कूलों को मान्यता दे दी गई

धमतरी. पूरा शिक्षण सत्र निकलने को है, लेकिन अब तक कई निजी स्कूलों में आरटीई के मापदंडों के आधार पर सुविधाएं नहीं जुटाई जा सकी हैं। उल्लेखनीय है कि शिक्षण सत्र शुरू होने के समय जांच-पड़ताल के बाद शिक्षा विभाग ने सुविधा विहीन स्कूलों की मान्यता रोक दी थी। करीब 4 स्कूलों में ताला जड़कर उन्हें सुविधाएं जुटाने के लिए नोटिस भी जारी किया गया था, लेकिन इनमें से अधिकांश स्कूल संचालकों ने सुविधाएं जुटाने में रूचि नहीं दिखाई। इसके बाद भी इन स्कूलों को मान्यता दे दी गई। पिछले कई माह से इन सुविधा विहीन स्कूलों मेें बेधड़क कक्षाएं संचालित हो रही हैं। खास बात यह है कि इसमें कई छोटे स्कूल से लेकर कई नामी-गिरामी और बड़े स्कूल भी शामिल हैं।

इसलिए रुकी मान्यता
जिले में कुल 192 निजी स्कूल हैं। शिक्षण सत्र के शुरूआती दौर में प्रक्रिया के तहत सभी स्कूलों द्वारा शिक्षा विभाग में मान्यता के लिए फाइल जमा की गई, जिसमें स्कूलों में उपलब्ध सुविधाओं के बारे में जानकारी दी गई थी। इसके बाद शिक्षा विभाग के प्राचार्यों और क्लास-टू वर्ग के अधिकारियों द्वारा खेल मैदान, फर्नीचर, शौचालय, सफाई, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं सहित 30 बिंदूओं पर निरीक्षण किया गया। जहां कमियां मिली थी, उन स्कूलों की मान्यता रोकी गई थी।

कहां कितनों को मान्यता
जिले में सबसे ज्यादा धमतरी विकासखंड के 81 स्कूलों को मान्यता दी गई है। इसमें से 2 प्री-प्राथमिक, 29 प्राथमिक, 31 माध्यमिक, 5 हाईस्कूल, 14 हायर सेकेंडरी स्कूल शामिल हैं। कुरूद के 52 स्कूलों को मान्यता दी गई है। जिसमें 2 प्री-प्राथमिक, 22 प्राथमिक, 12 माध्यमिक, 4 हाई और 12 हायर सेकेंडरी है। मगरलोड के 8 प्राथमिक, 14 माध्यमिक, 1 हाई और 5 हायर सेकेंडरी, नगरी में 11 प्राथमिक, 10 माध्यमिक, 5 हाई और 2 हायर सेकेंडरी स्कूल को मान्यता दी गई है। जिले के तीन स्कूलों को अब तक मान्यता नहीं दी गई है।

स्कूलों को दी जाएगी मान्यता
सहायक जिला शिक्षा अधिकारी एनआर मगर ने बताया कि सुविधाएं बहाल करने के बाद इन स्कूलों को मान्यता दी गई है। इस साल मान्यता की प्रक्रिया अभी से शुरू कर दी गई है। नोडल अधिकारियों द्वारा रिपोर्ट तैयार की जा रही है। जनवरी माह में ही क्लीयर हो जाएगा कि किन स्कूलों को मान्यता दी जाएगी।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???