Patrika Hindi News

> > > > Government doctors sent resign to IMA in jharkhand

झारखंड के 480 सरकारी डॉक्टरों ने IMA को भेजा इस्तीफा

Updated: IST  Mysterious fever
झारखंड के अलग-अलग जिलों से करीब 480 डॉक्टर्स ने आईएमए झारखंड को अपना इस्तीफा भेज दिया...

धनबाद। झारखंड के अलग-अलग जिलों से करीब 480 डॉक्टर्स ने आईएमए झारखंड को अपना इस्तीफा भेज दिया। अगर रघुवर सरकार ने आईएमए की मांग नहीं मानी तो 28 सितंबर से झारखंड के सरकारी अस्पतालों में इलाज बंद हो जाएगा। आने वाले दिनों में यह संख्या और बढ़ने वाली है।

जानकारी के अनुसार झारखंड में मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट को लागू कराने को लेकर आईएमए झारखंड के डॉक्टर्स गंभीर दिख रहे हैं। इस मामले को लेकर रोजाना डॉक्टरों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है।

आईएमए झारखंड की ओर से किए जाने वाले कार्य बहिष्कार का आईएमएए बिहार ने समर्थन किया है। आईएमएम झारखंड ने बिहार आईएमए को समर्थन के लिए अनुरोध किया था, उसके बाद बिहार आईएमए ने समर्थन किया है। बिहार सरकार के डॉक्टरों ने झारखंड में मेडिकल प्रोटेक्टशन एक्ट नहीं होने पर आश्चर्य व्यक्त किया है।

आईएमए झारखंड के सेक्रेटरी डॉ. प्रदीप कुमार ने बताया कि मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट को लेकर 28,29 और 30 सितंबर हम कार्य बहिष्कार करने जा रहे हैं। मतलब तीन दिनों तक सरकारी अस्पतालों में इमरजेंसी और पोस्टमाटम छोड़कर कहीं डॉक्टर काम नहीं करेंगे। वहीं 30 सितंबर को समूचे झारखंड के करीब 10 हजार प्राइवेट डॉक्टर आंदोलन से जुड़ जाएंगे। मतलब उस दिन प्राइवेट हॉस्पिटल में कार्य बहिष्कार होगा।

बताया कि झारखंड में 1800 सरकारी डॉक्टर हैं। अगर सरकार ने हमारी मांगें नहीं मानी तो सभी 15 अक्टूबर को सीएम को सामूहिक इस्तीफा सौंप देंगे। उन्होंने कहा कि रघुवर सरकार राज्य के आखिरी आदमी तक स्वास्थ्य सेवा पहुंचाना चाहती है, लेकिन अपने डॉक्टरों के बारे में नहीं सोचती।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे