Patrika Hindi News

चेक ने बढ़ाई किसानों की परेशानी

Updated: IST photo
8 दिन में चेक हो रहे हैं क्लियर

धार. हजार-पांच सौ की नोटबंदी से हफ्तेभर मंडी बंद रही, वहीं चेक से भुगतान की शर्त पर शुरू हुई मंडी खरीदी के बाद अब किसान परेशान दिखाई दे रहा हंै, हालांकि 16 नवंबर से अब तक एक भी चेक क्लियर नहीं हुआ।

तीन दिन में सिकरने वाले चेक प्रक्रिया के कारण 8-8 दिन में क्लियर हो रहे हैं। उपज बेचकर हाथोहाथ नगद प्राप्त करने वाले किसानों को अब अपनी ही रकम के लिए सप्ताहभर इंतजार करना पड़ रहा है, जिससे न केवल उनका पारिवारिक गणित गड़बड़ा रहा है, बल्कि शादी-ब्याह के सीजन में सामाजिक प्रतिष्ठा भी धूमिल हो रही है। बाजार को केशलेस करने की केंद्र सरकार की मंशा के बाद 8 नवंबर की रात से हजार-पांच सौ के नोट चलन से बाहर कर दिए। इधर, नोटबंदी के इस निर्णय से प्रभावित धार की कृषि उपजमंडी लगभग एक सप्ताह बंद रही, जबकि मंडी बोर्ड के चेक से भुगतान के निर्णय पर 16 नवंबर से फिर मंडी शुरू की गई। हालांकि शुरू के दो-तीन दिन आवक प्रभावित रही, लेकिन धीरे-धीरे मंडी ने रफ्तार पकडऩा शुरू कर दी। इधर, बैंकों की लचर कार्यप्रणाली से किसानों की तकलीफें बढ़ गई हैं।

किसानों के अनुसार चेक जमा करने के बाद 8-8 दिन में उनके खाते में रकम जमा हो रही है, जबकि इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग में अधिकतम 3 दिन में चेक सिकर जाना चाहिए।

आरटीजीएस से भुगतान

मंडी सचिव जेके चौधरी ने बताया कि वैसे तो व्यापारियों द्वारा किसानों को क्रॉस चेक से भुगतान किया जा रहा है, लेकिन चेक बुक खत्म हो जाने पर व्यापारी आरटीजीएस करके भी किसानों के खाते में रकम जमा कर रहे हैं। मंडी से आंकड़े नहीं मिल पाए, लेकिन मिली जानकारी के अनुसार पिछले 10 दिन में करीब 30 किसानों को लाखों रुपए का भुगतान आरटीजीएस से किया है। इधर, समय पर चेक क्लियर नहीं होने के कारण किसानों में असंतोष उभर रहा है, जिससे मंडी की आवक प्रभावित हो रही है। सीजन के समय 10 से 12 हजार बोरी आती थी, जो अब 8 हजार बोरी रह गई है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???