Patrika Hindi News

पुनर्वास केंद्र के मकान के खिड़की-दरवाजे चोरी

Updated: IST
मुआवजे की रकम से बनाया था पुनर्वास स्थल पर मकान

धार. वर्ष 2005 में डूब के गांव खाली कराने का दबाव बना तो विस्थापित ने मुआवजे में मिली रकम से सूनसान इलाके में बने पुनर्वास स्थल के प्लॉट पर मकान तान दिया। मामला न्यायालय में होने के कारण इस वर्ष डूब के गांव खाली नहीं कराए जा सके। नए बनाए मकान में बसाहट नहीं होने व सूनसान क्षेत्र होने के कारण यहां से चोर खिड़की, दरवाजे व लोहे के चैनलगेट तक चुरा ले गए। अब सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आया तो ये उम्मीद के घरौंदे फिर से खर्चा मांगने लगे। यह कहानी निसरपुर के जयदेव त्रिवेदी के मकान की है, जो सरदार सरोवर बांध की डूब में है। निसरपुर की बसाहट में बने इनके मकान की मरम्मत पर फिर से लाखों खर्च करना पड़ रहे हैं। त्रिवेदी के 3 पुत्र हैं, जिनमें से मनोहर त्रिवेदी कहते हैं कि 3 भाइयों के हिस्से वाले मकान के डूब में आने पर उन्हें निसरपुर की नई बसाहट में 3 प्लॉट मिले और तीनों के बीच 7 लाख रुपए का मुआवजा मिला था। इस रकम में कुछ और मिलाकर पुनर्वास स्थल पर मकान बनाया, लेकिन सूनसान क्षेत्र में और बसाहट नहीं हुई तो वे वहां गए ही नहीं। मनोहर के पुत्र अर्श ने बताया, कुछ वर्ष पूर्व नए मकान में रखा 35 क्विंटल सरिया चोरी हो गया।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???