सौभाग्य के लिए शाम को न करें झाडू और तुलसी से जुड़े ये काम, हो जाएंगे बर्बाद

जानिए ज्योतिष की ऐसी कुछ मान्यताओं के बारे में जिन्हें शाम के वक्त करने से सौभाग्य भी दुर्भाग्य में बदल जाता है

By: सुनील शर्मा

Published: 27 Sep 2016, 02:39 PM IST

घर के बड़े-बुजुर्ग कहते हैं कि शाम को झाडू नहीं लगानी चाहिए, इससे घर की लक्ष्मी बाहर जाती है। आज हम आपको ज्योतिष की ऐसी ही कुछ मान्यताओं के बारे में बता रहे हैं जिन्हें शाम के वक्त करने से सौभाग्य भी दुर्भाग्य में बदल जाता है। आइए जानते हैं क्या हैं ये काम-

ये भी पढ़ेः आनंद और सिद्ध योग बनने से आज होगी एक्स्ट्रा इनकम, खुलेगी आपकी किस्मत

ये भी पढ़ेः अमावस्या को करें ये छोटा सा अचूक उपाय, मनचाहे काम में सफल होंगे

तुलसी को जल न चढ़ाएं
सनातन धर्म की मान्यता अनुसार रोज सायंकाल तुलसी के पास दीपक जलाना शुभ माना जाता है। परन्तु शाम के समय तुलसी में कभी भी जल नहीं चढ़ाना चाहिए और न ही तुलसी के पत्ते तोड़ना चाहिए। इन नियमों का पालन करने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

शाम को झाडू न लगाएं
माना जाता है कि शाम को झाड़ू लगाने से घर की लक्ष्मी बाहर चली जाती है। इससे घर की सकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल कर नकारात्मक ऊर्जा तथा दरिद्रता का घर में प्रवेश होता है। इसलिए शाम को झाडू लगाने के बजाय पहले ही घर साफ कर लेना चाहिए।

ये भी पढ़ेः लाल किताब के इन उपायों से आप भी बन सकते हैं करोड़पति, लेकिन जरूरत होने पर ही करें

ये भी पढ़ेः अभी आपके मन में क्या है, ये भी पता चलता है हाथ की इस रेखा से

प्रेम संबंध न बनाएं

तंत्रशास्त्रों के अनुसार सायंकाल देवताओं के साथ-साथ प्रेत पिशाचों का भी होता है। अतः कभी भी शाम को संभोग नहीं करना चाहिए अन्यथा बुरी और नकारात्मक शक्तियां घर में प्रवेश कर सकती है। इस समय देवताओं की आराधना, अर्चना करने से देवता घर में प्रवेश करते हैं तथा सुख, समृद्धि का वरदान देते हैं।

शाम को सोएं नहीं
आयुर्वेद के अनुसार शाम को नहीं सोना चाहिए। केवल स्वास्थ्य खराब होने की स्थिति में ही सोना चाहिए। गर्भवती स्त्रियां, बुजुर्ग भी शाम के समय आराम कर सकते हैं। शाम के समय सोने से आलस्य, मोटापा बढ़ता है तथा स्वास्थ्य खराब होता है।

ये भी पढ़ेः कंठस्थ कर लें हनुमानजी के इन 12 नामों को, दूर होगी हर बाधा

ये भी पढ़ेः तंत्र-मंत्र की ये साधारण सी चीज दूर कर देती है जीवन की हर समस्या

क्रोध न करें
क्रोध करने वाले किसी दूसरे के बजाय खुद का ज्यादा नुकसान करते हैं। शाम को जब देवता पृथ्वी पर भ्रमण कर रहे होते हैं, व्यक्ति को क्रोधित देखकर उस घर में नहीं आते। इससे व्यक्ति का दुर्भाग्य जाग उठता है।

ये भी पढ़ेः बड़े से बड़े दुर्भाग्य को भी सौभाग्य में बदल देते हैं ये 7 अचूक टोटके

ये भी पढ़ेः लाइफ में सब कुछ ठीक न चल रहा हो तो करें बजरंग बाण का पाठ

पढ़ाई न करें
प्राचीन मान्यताओं के अनुसार शाम के समय व्यक्ति को पढ़ाई की बजाय मनोरंजन तथा दूसरों के साथ मिलने-जुलने में बिताना चाहिए। इससे व्यक्ति का दिमाग फ्रेश हो जाता है और वो ज्यादा अच्छे से ध्यान एकाग्र कर सकते हैं। पढ़ाई के लिए सबसे अच्छा समय सुबह का बताया गया है।

चुगली न करें
यूं तो व्यक्ति को कभी भी किसी की चुगली नहीं करनी चाहिए। फिर भी शाम के समय चुगली करने के लिए स्पष्ट मना किया गया है। इससे भी सौभाग्य समाप्त होकर दुर्भाग्य घर में प्रवेश कर जाता है।
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned