Patrika Hindi News

बेवजह ना छोड़ें आलू, चावल, जानें कुछ खास बातें 

Updated: IST potato and rice eating
कहा गया है जैसा खाएं अन्न, वैसा होगा मन। लेकिन हमारे समाज में खाने को लेकर कई तरह की धारणाएं हैं, जिनसे जुड़े तथ्यों को जानना बेहद जरूरी है।

खाने और हमारी सेहत का गहरा संबंध होता है। कहा गया है जैसा खाएं अन्न, वैसा होगा मन। लेकिन हमारे समाज में खाने को लेकर कई तरह की धारणाएं हैं, जिनसे जुड़े तथ्यों को जानना बेहद जरूरी है।

धारणा : नूडल्स हैल्थ के लिए अच्छे नहीं होते?
तथ्य : यह सही है कि नूडल्स हर उम्र विशेषकर बच्चों के लिए हानिकारक हैं। नूडल्स में आईएनएस 621 या मोनो सोडियम ग्लूटामेट होता है। यह अमीनो एसिड से निकलने वाला पदार्थ होता है जो खाने को स्वादिष्ट बनाता है। इससे एलर्जी और सिरदर्द हो सकता है। नूडल्स खरीदने से पहले पैकेट में देख लेना चाहिए कि कहीं इसमें आईएनएस 621 तो नहीं।

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की रिसर्च में पाया कि कई नूडल्स में नमक की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। जो ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए अच्छी नहीं होती। तेज भूख लगी हो तो नूडल्स ना खाएं। इससे आप जरूरत से ज्यादा नूडल्स खा लेंगे। अगर फिर भी कभी स्वाद बदलने के लिए बनाएं तो इसमें हरी सब्जियां और सोयाबीन मिक्स कर लें। साधारण नूडल्स की बजाय आटा नूडल्स खा सकते हैं या घर में बने गेहूं के आटे के जवे भी आपको स्वादिष्ट लगेंगे।

धारणा : हरे आलू नहीं खाने चाहिए।
तथ्य : डाइटीशियन डॉ. विनीता बंसल के अनुसार यह सही है कि जिन आलुओं के छिलके का रंग हरा हो उन्हें नहीं खाना चाहिए। धूप के अधिक प्रभाव में आने से ये आलू हरे होते हैं। इनमें सोलानिन नामक हानिकारक पदार्थ बहुत ज्यादा आ जाता है। यह सेहत के लिए नुकसानदायी होता है। इससे सिरदर्द और डायरिया हो सकता है।

जिन लोगों को गैस्ट्रिक प्रॉब्लम होती है उन्हें आलू नहीं खाना चाहिए लेकिन कच्चे आलू से तैयार किए गए जूस से गैस की समस्या में आराम मिलता है। आलू में ग्लूकोज होता है इसलिए डायबिटीज के रोगी इसे ना खाएं। ब्लडप्रेशर के मरीज आलू उबालकर खा सकते हैं। आलू का अंकुरित हिस्सा नहीं खाना चाहिए क्योंकि ये पाचन संबंधी दिक्कतें करता है। हॉर्टिकल्चर प्रोड्यूस मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट लखनऊ की ओर से कहा गया कि उबले आलू में वसा की मात्रा सिर्फ 0.1 फीसदी होती है जो मोटापा नहीं बढ़ाती इसलिए उबले आलू खा सकते हैं। आलू में वसा की मात्रा तलने या सब्जी बनाने के बाद बढ़ती है।

धारणा : रात में चावल नहीं खाना चाहिए।
तथ्य : आयुर्वेद विशेषज्ञों के अनुसार रात को चावल इसलिए नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसमें कार्बोहाइड्रेट होता है। इससे ज्यादा ऊर्जा मिलती है और रात में हमें इतनी एनर्जी की जरूरत नहीं होती। यह ऊर्जा शरीर में जमा हो जाती है और मोटापे समेत कई बीमारियां होने लगती हैं।

धारणा : खांसी जुकाम में चावल ना खाएं, इससे कफ होता है।
तथ्य : खांसी और जुकाम में चावल नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है जिससे कफ की समस्या होती है।

चावल के फायदे हैं कई
जिनका पेट ठीक नहीं रहता है। उन्हें दही-चावल खाना चाहिए। इसके अलावा बच्चों के लिए भी चावल अच्छा होता है। सफेद चावल डायबिटीज के रोगियों को नहीं खाने चाहिए। कभी भी चावल को प्रेशर कुकर में ना बनाएं वर्ना स्टार्च की मात्रा इसके अंदर ही रह जाएगी। चावल को ऐसे बर्तन में पकाएं जिससे कि उसमें मौजूद स्टार्च भाप के जरिए निकल जाए। बिना पॉलिश किया हुआ ब्राउन चावल सेहत के लिए अच्छा होता है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???