Patrika Hindi News

यहां रात में नहीं होती किसी की भी शादी

Updated: IST marriage
आपको जानकर हैरानी होगी कि हमारे देश में ही ऐसी एक जगह है जहां रात में शादियां ही नहीं होती

नई दिल्ली। आमतौर पर शादियां रात के समय ही होती हैं और इस पर लाखों रुपए भी खर्च किए जाते हैं। हमारे देश में ज्यादातर लोगा शादियों में अपनी शान दिखने के लिए उधार पैसे लेने से भी नहीं चूकते, लेकिन यह भी सच है कि शादियों में किया जाने वाला यह सरा खर्च फिजूल ही होता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि हमारे देश में ही ऐसी एक जगह है जहां रात में शादियां ही नहीं होती।

गाजियाबाद जिले के अटौर गांव में लोग शादी पर होने वाले तमाम फिजूलखर्च से बचने के लिए दिन में ही शादी करते हैं। यहां शादी की हर रस्म दिन में ही निभाई जाती है। 20 वर्षों से यहां यह परंपरा कायम है। गांव वाले रात के समय होने वाली शादियों में सजावट आदि को फिजूलखर्ची मानते हैं। यही वजह है कि यहां सबने तय कर रखा है कि रात के समय लाइट, जेनरेटर आदि पर कोई पैसा खर्च नहीं करेगें।

यहां सुबह 10 बजे बारात आती है और शाम होते होते दुल्हन विदा हो जाती है। इस परंपरा से गांव के लोगों ने अब तक लाखों रुपए बचाए हैं। गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि 20 साल पहले तक अटौर में भी रात में ही शादियां होती थीं, लेकिन गांव में बिजली नहीं होने के चलते जेनरेटर का खर्च काफी आता था। साथ ही इसके धुंए और तेज आवाज से भी लोगों को परेशानी होती थी। तब यह फैसला लिया गया कि यहां शादियां दिन में ही होंगी। अब दिन में शदियां होने के कारण गांववालों को रात को बारात को रुकवाने का इंतजाम नहीं करना पड़ता और न ही कोई शराब पीकर हंगामा करता है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???