Patrika Hindi News

गैस की खपत कम कीजिए:आज बुकिंग कराएंगे तो एक सप्ताह बाद मिलेगा सिलेंडर

Updated: IST Then a week later cylinder will get booking today
गैस कंपनियां भले ही बुकिंग के 48 घंटे के अंदर डिलिवरी का दावा करें, लेकिन शहर के उपभोक्ताओं को बुकिंग के हफ्तेभर बाद भी सिलेंडर नहीं मिल रहा है।

भिलाई. गैस कंपनियां भले ही बुकिंग के 48 घंटे के अंदर गैस सिलेंडर की डिलिवरी का दावा करें, लेकिन शहर के उपभोक्ताओं को बुकिंग कराने के हफ्तेभर बाद भी सिलेंडर नहीं मिल रहा है। दो माह पहले भी ऐसी नौबत आई थी तब कंपनी ने मध्यप्रदेश से गैस सिलेंडर की सप्लाई बहाल रखने का प्रयास किया। अब फिर से समय पर गैस सिलेंडर नहीं मिलने की समस्या सामने आई है।

सप्लाई व्यवस्था गड़बड़ाई

जिले में गैस सिलेंडर की सप्लाई कब तक सुधरेगी। इस सवाल का उचित जवाब जिम्मेदार लोगों के पास नहीं है। हालांकि उनका कहना है कि ट्रांसपोर्टिंग सिस्टम की वजह से गैस सिलेंडर की सप्लाई व्यवस्था गड़बड़ाई है। यदि अधिकारियों के दावे के मुताबिक गैस सिलेंडर की सप्लाई एक सप्ताह में सामान्य नहीं हुई तो दिक्कत और बढ़ेगी।

सप्लाई 50 फीसदी से भी कम

फिलहाल डिमांड की तुलना में गैस सिलेंडर की सप्लाई कम 50 फीसदी से भी कम है। इस वजह से उपभोक्ताओं को बुकिंग कराने के सात दिन बाद डिलीवरी का आवश्वासन दिया जा रहा है।

डिमांड और सप्लाई में बढ़ रहा अंतर

शादी सीजन और होली का त्योहार सामने है। इस लिहाज से गैस सिलेंडर की मांग और बढ़ेगी। फिलहाल मांग की तुलना में जिले में गैस सिलेंडर की सप्लाई 50 फीसदी से कम है। जिले में दर्जनभर गैस एजेंसी है। सभी एजेंसियों में औसतन प्रतिदिन 400 सिलेंडर की डिमांड है। लेकिन कंपनी से 150-200 सिलेंडर की सप्लाई दिया जा रहा है। शहर से बाहर कस्बा क्षेत्र के गैस एजेंसियों को नियमित के बजाय 2-3 दिन के अंतराल में गैस सिलेंडर की सप्लाई किया जा रहा है।

उपभोक्ताओं को ज्यादा तकलीफ

गैस वितरकों का कहना है कि कंपनी से सिलेंडर सप्लाई नहीं हो रही है। वितरकों का कहना है कि घरेलू गैस का रिफलिंग रायपुर प्लांट के बजाय ओडिशा के प्लांट से किया जा रहा है। लेकिन यहां जिले में गैस सिलेंडर की सप्लाई के लिए ट्रक से ट्रांसपोर्टिंग की व्यवस्था नहीं हुई है। इस वजह से सप्लाई गड़बड़ाई है।

मांग के अनुरूप सप्लाई नहीं

जय अंबे गैस एजेंसी के संचालक ने बताया कि मांग के अनुरूप सिलेंडर की सप्लाई नहीं हो रही है। हर रोज कम से कम 400 सिलेंडर की डिमांड है। उतनी सिलेंडर की सप्लाई नहीं हो रही है। इसलिए वेटिंग सूची बढ़ती जा रही है।

ट्रांसपोर्टिंग की समस्या

सेल्स मैनेजर नेमेश देशमुख ने बताया कि ट्रांसपोर्टिंग की वजह से सप्लाई व्यवस्था प्रभावित हुई है। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया चल रही है। तब तक छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्से में भोपाल के रिफलिंग प्लांट से गैस सिलेंडर की सप्लाई की जाएगी।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???