Patrika Hindi News

> > > > Durg: Health Secretary asked, who call for the AC in the clerk room, the officer could not answer

स्वास्थ्य सचिव ने पूछा बाबू के रूम में एसी किसने लगवाई, अफसर नहीं दे पाए जवाब

Updated: IST Health Secretary asked, who call for the AC in the
जिला अस्पताल में बाबूओं के रूम में एसी और विशेषज्ञ चिकित्सक व मरीजों को पंखे के नीचे बैठे देख स्वास्थ्य सचिव सुब्रत साहू का माथा ठनक गया।

दुर्ग. जिला अस्पताल में बाबूओं के रूम में एसी और विशेषज्ञ चिकित्सक व मरीजों को पंखे के नीचे बैठे देख स्वास्थ्य सचिव सुब्रत साहू का माथा ठनक गया। गुरुवार को उन्होंने जिला अस्पताल की सरप्राइज चेकिंग की। उन्होंने अस्पताल की व्यवस्था को तत्काल बदलने के निर्देश दिए। स्वास्थ्य सचिव के बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के सुबह 11.20 बजे जिला अस्पताल पहुंचे। बिना किसी से चर्चा के निरीक्षण करने लगे। कमियों को नोट करने के साथ ही सीएमएचओ डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव और सिविल सर्जन डॉ. रेखा गुप्ता को व्यवस्था सुधारने निर्देश दिए। स्वास्थ्य सचिव का फोकस इफ्रा-स्ट्रक्चर, मरीजों को मिलने वाली सुविधाएं के अलावा सफाई व्यवस्था पर था।

पूछा कर्मचारियों को एसी में क्यों बैठाया

स्वास्थ्य सचिव ने पहले केजुअल्टी देखी। फिर ओपीडी, पैथालॉजी, आईसीयू, बाल रोग निदान केन्द्र, चिल्ड्रन एनआईसीयू देखने के बाद सिविल सर्जन कक्ष पहुंचे। अस्पताल के प्रशासनिक कक्ष गैलरी में कदम रखा उन्होंने अस्पताल के अधिकारियों से व्यंगात्मक लहजे में कहा कि कर्मचारियों को एसी में क्यो बैठाया गया है। उन्होंने तीखे तेवर में तत्काल एसी को निकालकर आवश्यकता अनुसार लगाने के निर्देश दिए।

इन्हें लगाई फटकार

निरीक्षण के दौरान जर्जर भवनों और चोक नाली को देख स्वास्थ्य सचिव ने नाराजगी जाहिर की। उन्होंने सीजीएमएससी और लोक निर्माण विभाग के इंजीनियरों को फटकार लगाते हुए कहा कि अस्पताल में पैसे की कमी नहीं है।इसके बाद भी टेंडर नहीं निकाला जा रहा है। वे अधूरे कार्य को जल्द पूरा करने कर रिपोर्ट देने के लिए कहा।

आईसीयू की मशीन चालू करवा कर देखी

उन्होंने आईसीयू के निरीक्षण के दौरान इंचार्ज चिकित्सक डॉ. केके जैन को भी बुलाकर व्यवस्था के बारे में जानकारी ली। वहां स्टालेशन मशीन को चालू कराकर देखा।

इन खामियों को दूर करने कहा

वार्ड और ओपीडी के टायलेट की जल्द मरम्मत, आईसीयू के स्टोर रुम से कंडम सामान हटाने।ओपीडी में बैठक व्यवस्था बेहतर करने।चाइल्ड ओपीडी का स्थान बदलने, पैथालजी को सेंट्रालाइज करने। अतरिक्त कमरे में ओपीडी लगाने, अस्पताल के छत में लगे वाटर टैंक में ढक्कन लगाने। कंडम सामानों को तत्काल हटाने, बाल रोग निदान केन्द्र में बैठने की व्यवस्था की जाए। बाल रोग निदान केन्द्र में बने रैंप की मरम्मत करने, ओपीडी में दवा वितरण केन्द्र का विस्तार करने। डॉयलेसिस हर दिन दो की जगह चार पंजीकृत मरीजों का करने।

हड़बड़ाए अफसर

स्वास्थ्य सचिव के जिला अस्पताल पहुंचने पर अधिकारियों में हड़कंप मचा था। सूचना मिलते ही तत्काल सीएमएचओ डॉ. प्रशात श्रीवास्तव, सिविल सर्जन डॉ. रेखा गुप्ता, आरएमओ डॉ. एसएन दत्ता स्वास्थ्य सचिव के अगुवानी करने पहुंचे। सुब्रत साहू ने बिना कोई औपचारिकता के सीधे निरीक्षण की बात कही।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे