Patrika Hindi News

भविष्य निधि अंशधारकों को 2016-17 में 8.65 प्रतिशत ब्याज

Updated: IST Dattatreya
दत्तात्रेय ने कहा कि संगठन के न्यासियों की पिछले साल दिसम्बर में हुई बैठक के लिए गए निर्णय के अनुसार ही अंशधारकों को 2016-17 में ब्याज मिलेगा

नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अपने अंशधारकों को जमा पर 2016-17 में 8.65 प्रतिशत ब्याज देगा। श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने गुरुवार को यह जानकारी दी । संगठन के लगभग चार करोड़ अंशधारक हैं। दत्तात्रेय ने कहा कि संगठन के न्यासियों की पिछले साल दिसम्बर में हुई बैठक के लिए गए निर्णय के अनुसार ही अंशधारकों को 2016-17 में ब्याज मिलेगा। दत्तात्रेय ने कहा कि ब्याज में कोई कमी नहीं की गई है। संगठन के केन्द्रीय न्यासी बोर्ड ने 8.65 प्रतिशत ब्याज देने का निर्णय किया है।

ईपीएफओ से पैसा निकालना हुआ आसान, बदले यूएएन के नियम

नई दिल्ली। ईपीएफओ से पैसे निकालने के लिए अब उस प्रोविजन में रियायत दी गई है, जिसमें पीएफ विदड्रॉल जैसे सेटलमेंट क्लेम्स के िलए यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) देना अनिवार्य था। यह प्रावधान उन सब्सक्राइबर्स के लिए था, जिन्होंने 1 जनवरी 2014 के बाद मेंबरशिप छोड़ दी है।

ईपीएफओ ने क्लेम एप्लीकेशन फॉर्म्स पर यूएएन देना पिछले साल दिसंबर से अनिवार्य किया था। एक अधिकारी ने बताया - इस शर्त में रियायत देने का फैसला ऐसे सदस्यों की मुश्किलों को देखते हुए किया गया है, जिन्हेंय ूएएन अलॉट नहीं किया गया था। यूएएन की शुरुआत में यह 1 जनवरी 2014 के दौरान के सभी मेंबर्स को अलॉट किया गया था। यह फैसला उन मैंबर्स को राहत देने के लिए किया गया है, जिन्होंने 1 जनवरी 2014 से पहले नौकरी छोड़ दी थी।

अब यह फैसला किया गया है कि क्लेम फॉर्म उस स्थिति में बिना यूएएन के भी स्वीकार किया जा सकता है जहां मेंबर ने नौकरी 1 जनवरी 2014 से पहले ही छोड़ दी थी। इसके अलावा कुछ मामलोुं में ऑफिसर इंचार्ज अपनी समझ से बिना यूएएन के क्लेम फॉर्म जमा करने की इजाजत दे सकता है। यूएएन को क्लेम फॉर्म पर कोट करना इस मकसद से अनिवार्य बनाया गया था कि इससे गलतियों की आशंका कम होगी। यूएएन आधार, बैंक अकाउंट और अन्य चीजों से जुड़ा रहता है, ऐसे में यह क्लेम दाखिर करने वालों को बिना किसी दिक्कत के अपना बकाया हासिल करने में मदद देता है।

ईपीएफओ ने जुलाई 2015 में यूएएन नंबर देना शुरू किया था। वह मेंबर्स को अब तक चार करोड़ यूएएन अलॉट कर चुका है। मेंबर्स अपना यूएएन खुद भी ऐक्टिवेट कर सकते हैं और इसे किसी अन्य ऑनलाइन बैंक अकाउंट की ही तरह मैनेज भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???