Patrika Hindi News

ब्रिटेन: ब्रेग्जिट पर दोबारा चुनाव कराना चाहते हैं आधे से ज्यादा लोग

Updated: IST Theresa May
ब्रिटेन की बहुसंख्यक आबादी अब ब्रेग्जिट पर दोबारा मतदान कराना चाहती है। नए सर्वे के मुताबिक 53 फीसदी लोग मतदान कराने के पक्ष में हैं।

लंदन. पिछले साल यूरोपियन संघ से अलग होने के पक्ष में मतदान करने के बाद लगता है कि अब ब्रिटेन की जनता ने ब्रेग्जिट पर अपनी राय बदल दी है। ब्रिटेन की बहुसंख्यक आबादी अब ब्रेग्जिट पर दोबारा मतदान कराना चाहती है। नए सर्वे के मुताबिक, ब्रेग्जिट समझौते की निर्णायक शर्तों को मंजूर किया जाए या नहीं, इसके फैसला के लिए 53 फीसदी लोग मतदान कराने के पक्ष में हैं, जबकि 47 प्रतिशत इसके खिलाफ हैं। इससे पहले जब अप्रेल में यही सवाल लोगों से पूछा गया था, तब 54 फीसदी लोगों ने दोबारा जनमत संग्रह कराए जाने का विरोध किया था। हाल ही में संपन्न चुनाव में कंजरवेटिव पार्टी और पीएम थेरेसा की घटी लोकप्रियता भी यही संकेत करती है कि ब्रेग्जिट पर अंग्रेजों की राय बदल रही है। थेरेसा के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं।

शर्तों के खिलाफ बन रहा है माहौल
सर्वे के नतीजे बताते हैं कि वहां कठोर शर्तों के खिलाफ माहौल बन रहा है। 35 फीसदी ही थेरेसा की उस बात से सहमत हैं कि एक बुरे समझौते से बेहतर है कि समझौता हो ही नहीं।

हार्ड ब्रेग्जिट के पक्ष में नहीं जनता
थेरसो ने इसी साल जनवरी में कहा था कि वह हार्ड ब्रेग्जिट चाहती हैं। मैं चाहती हैं कि ईयू से अलग होते समय यूरोप के साथ व्यापार की अपनी शर्तें और समझौते ब्रिटेन खुद तय करे।

पामेला ने थेरेसा को खराब पीएम कहा
हॉलीवुड एक्ट्रेस पामेला एंडरसन ने ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे को अपने जीवन की सबसे खराब प्रधानमंत्री कहा है। एंडरसन ने ब्लॉग पोस्ट में लिखा है कि थेरेसा मे पिछले चुनाव में बहुमत हासिल नहीं कर पाईं।

ऐतिहासिक हो समझौता: डेविड
ब्रसेल्स स्थित यूरोपीय संघ मुख्यालय में ब्रिटेन के ब्रेग्जिट मंत्री डेविड डेविस का स्वागत करते हुए यूरोपीय संघ के मुख्य वार्ताकार मिशेल बनीए ने कहा, सोमवार से हम यूरोपीय संघ से ब्रिटेन की व्यवस्थित निकासी के लिए वार्ता शुरू कर रहे हैं। डेविस ने कहा है कि उनका देश ऐसा समझौता करना चाहता है, जैसा इतिहास में किसी ने नहीं किया हो।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???