Patrika Hindi News

नीदरलैंड्स की जनता ने इस्लाम-विरोधी दक्षिणपंथी पार्टी को नकारा

Updated: IST roote
नीदरलैंड्स में बुधवार को हुए आम चुनावों में प्रधानमंत्री मार्क रूट की पार्टी ने इस्लाम-विरोधी और ईयू-विरोधी एजेंडा चलाने वाले फ्रीडम पार्टी के नेता खियर्ट विल्डर्स को संसदीय चुनावों में बुरी तरह पछाड़ दिया है।

द हेग. नीदरलैंड्स में बुधवार को हुए आम चुनावों में प्रधानमंत्री मार्क रूट की पार्टी ने इस्लाम-विरोधी और ईयू-विरोधी एजेंडा चलाने वाले फ्रीडम पार्टी के नेता खियर्ट विल्डर्स को संसदीय चुनावों में बुरी तरह पछाड़ दिया है। इस जीत पर कई यूरोपीय नेताओं ने रूटे को बधाई दी हैं। इस चुनाव में प्रवासियों के एकीकरण और इस्लाम विरोध का मुद्दा हावी रहा था। माना जा रहा है कि तुर्की के साथ हाल ही में हुई खींचतान और तनाव से भी रूटे को फायदा हुआ है। एक मुस्लिम बहुल देश तुर्की के खिलाफ नीदरलैंड्स के कड़ा रवैया बरतने से डच मतदाता प्रभावित हुए। इस चुनाव में करीब 78 फीसदी मतदाताओं ने अपने वोट डाले थे।जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के चीफ ऑफ स्टाफ पेटर आल्टमायर ने इन नतीजों पर ट्वीट कर लिखा, नीदरलैंड्स, ओह नीदरलैंड्स तुम चैंपियन हो!

इसिलए महत्पूर्ण है चुनाव
इसी साल फ्रांस और जर्मनी में भी आम चुनाव होने हैं और डच चुनाव में दक्षिणपंथी पार्टी के हाल को देखकर यूरोपीय नेता खुश हैं। वैसे तो नीदरलैंड्स में उदारवादियों की जीत के कई कारण बताए जा रहे हैं। हालांकि, इनमें से कई फैक्टर फ्रांस में होने वाले चुनाव में लागू होने की संभावना नहीं है। फ्रांसीसी चुनाव में सत्ताधारी दल, अति दक्षिणपंथी पॉपुलिस्ट नेता मरीन ले पेन की चुनौती झेलेगा। अप्रैल में चुनाव का पहला चरण होगा और मई में अंतिम राउंड होगा।

दक्षिणपंथियों में है निराशा
विल्डर्स अपना मन माफिक चुनावी नतीजा ना मिलने पर निराश जताई है। हालांकि उन्होंने आगे और कड़ी टक्कर देने की तैयारी में हैं। विल्डर्स ने अपनी पाटीर् की हार पर कहा है कि कहा है कि अच्छा होता कि हमारी सबसे बड़ी पार्टी होती, लेकिन हमारा सफाया भी नहीं हुआ है, हमने कई सीटें जीती हैं। इन नतीजों पर हमें गर्व है। गौरतलब है किवाइल्डर्स की प्रवासी विरोधी पार्टी ने नीदरलैंड्स में मस्जिदों और कुरान को प्रतिबंधित करने का वादा भी किया था।

निचले सदन के लिए हुआ था चुनाव
द हेग में स्थित डच संसद के निचले सदन की 150 सीटों के लिए चुनाव हुआ है। नीदरलैंड्स की संसद का ऊपरी सदन सीनेट कहलाता है, जिसमें 75 सीटें हैं। कोई भी विधेयक पास करवाने के लिए सीनेट में भी सरकार का बहुमत जरूरी होता है। रूटे की पार्टी वीवीडी ने 33 सीटें जीती हैं, जबकि 20 सीटों के साथ विल्डर्स की पार्टी दूसरे नंबर पर रही। जबिक, विल्डर्स के प्रवासी-विरोधी एजेंडा को काफी हद अपने वाली क्रिस्चियन डेमोक्रैट पार्टी ने तीसरे नंबर पर रही।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???