Patrika Hindi News
UP Scam

अधिकांश एटीएम बंद, बैंक में घंटों लाइन में लगने के बाद मिले सिर्फ 2000

Updated: IST Farrukhabad Banks
नोटबंदी के बाद अधिकतर बैंकों में सिर्फ 2000 रुपये मिलने से लाइन में खड़े ग्राहक काफी मायूस नजर आ रहे हैं।

फर्रुखाबाद. नोटबंदी के बाद अधिकतर बैंकों में सिर्फ 2000 रुपये मिलने से लाइन में खड़े ग्राहक काफी मायूस नजर आ रहे हैं। वहीं शहर के अधिकांश एटीएम बंद नजर आए और जो खुले थे उनमें नो कैश का बोर्ड लटक रहा था। स्टेट बैंक के एटीएम में ही कैश निकल रहा है। यही हाल ग्रामीण इलाकों की बैंकों का भी रहा। हालांकि कई बैंकों में ग्राहक खुले पैसे भी जमा करने लगे हैं, जिससे बैंककर्मियों को भुगतान करने में आसानी होने लगी है। रुपये लेकर कैश काउंटर से हटने वाले लोगों ने बताया कि बैंक में डेढ़ घंटे लाइन में लगने के बाद सिर्फ 2000 रुपये मिले हैं। उनकी वाहन साजसज्जा की दुकान है, लेकिन रुपये न निकलने से माल नहीं खरीद पा रहे हैं।

रेलवे रोड स्थित महाराष्ट्र बैंक का एटीएम बंद मिला। बैंक के अंदर कैश जमा और निकासी काउंटर पर ग्राहकों की लाइन लगी है। यहां भी ग्राहकों को 2000 का नोट दिया जा रहा है। रेलवे रोड स्थित इलाहाबाद बैंक में ज्यादा भीड़ नहीं है। रुपये निकालने व जमा करने वाले काउंटर पर इक्का-दुक्का ग्राहक खड़े हैं।

लाइन में खड़ीं बिटाना देवी निवासी भाऊटोला ने बताया कि रुपये निकालने के लिए चार दिन से बैंक आ रही हैं। दो दिन तो छुट्टी ही पड़ गई। आज दो हजार का नोट मिल रहा है गांव में इसका फुटकर भी नहीं मिलेगा। खर्चा कैसे चलेगा।

रुपये निकालने आए गणेश बाथम निवासी हाता सफ्दर खां का कहना है कि सिर्फ 2000 रुपये ही मिले हैं। इस महंगाई में 2000 रुपये से क्या-क्या करें। रेलवे रोड स्थित आईसीआईसीआई का एटीएम खुला था, लेकिन उसके बाहर 'नो कैश' का बोर्ड लगा है। वहीं ठंडी सड़क स्थित यूनाइटेड बैंक, रेलवे रोड स्थित पंजाब नेशनल बैंक, महाराष्ट्र बैंक, इलाहाबाद बैंक, त्रिपोलिया चौक पावर हाउस के पास स्थित एक्सिस बैंक, लालदरवाजा चुंगी स्थित केनरा बैंक और ठंडी सड़क स्थित एक्सिस बैंक के एटीएम भी बंद मिले । स्टेट बैंक ठंडी सड़क और स्टेट बैंक बद्री विशाल के एटीएम में कैश निकालने के लिए ग्राहकों की लंबी लाइन लगी है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???