Patrika Hindi News

Video Icon वीर सैनिकों की पत्नियां भी धूमधाम से मानती हैं करवाचौथ

Updated: IST karwa chouth
खरीददारी को उमड़ी महिलाओं की भीड़ देख दुकानदारों के चेहरे खिले रहे। वहीं सुहागिनें अभी से अपने को संवारने और सजाने में लग गयी हैं, जिसके चलते ब्यूटी पार्लर भी भीड़ से घिरे दिखे।

फर्रूखाबाद. करवाचौथ का इंतजार हर सुहागिनों को ब्रेसबी से होता है। दिनभर अन्न-जल त्याग कर जब रात को पत्नियाँ सज-सँवरकर, हाथों में पूजा की थाली लिए छलनी से चाँद को निहार कर अपने पति के हाथों से पानी पीती हैं तो न केवल पत्नियों को उनके व्रत का प्रतिसाद मिलता है। खास कर जब घर से दूर सरहद पर उसका पति देश की सीमा पर देश की रक्षा कर रहा हो। वीर सैनिको की पत्निया भी करवाचौथ बड़ी धूमधाम से मानती हैं।

करवाचौथ बुधवार को है। इसको लेकर नगर के बाजारों में रौनक छाने लगी है। बाजारों में करवाचौथ की खरीददारी को उमड़ी महिलाओं की भीड़ देख दुकानदारों के चेहरे खिले रहे। वहीं सुहागिनें अभी से अपने को संवारने और सजाने में लग गयी हैं, जिसके चलते ब्यूटी पार्लर भी भीड़ से घिरे दिखे। बाजार में तीन दिन पहले ही जगह-जगह करवा की दुकानें सज गईं। भोलेपुर, फतेहगढ़, चुड़ी वाली गली, नेहरु रोड, सेठ गली आदि स्थानों पर मार्ग किनारे दुकानें हैं। दुकानों पर मिट्टी निर्मित करुवा, दीपक, कलेंडर आदि सजे हुए थे। सौंदर्य प्रसाधन की दुकानों पर सुहागिन महिलाएं अपनी पसंदीदा चूडिय़ां, मेहंदी, क्रिम इत्यादि का मोल भाव कर खरीदारी करती नजर आईं। यही हाल साड़ी व जेवरात खरीदने को कपड़ा व सर्राफा दुकानों पर महिलाओं की भीड़ का है। ब्यूटी पालरों पर मेकअप लगवाने के लिए महिलाओं की खासी भीड़ हो रही है।

जम्मू में तैनात सैनिक की पत्नी मीरा सिंह चौहान ने बताया कि डिजिटल इण्डिया में अब पति से दूर नहीं हूं। अपना करबाचौथ का व्रत पहले फोटो देखकर खोलते थे, लेकिन आज तो वीडियो कॉल का जमाना है इसलिए पति से वीडियो कॉल करके अपना व्रत तोड़ूंगी।

नीलू चौहान ने कहा कि कई साल हो गए, मेरे पति को फौत में नौकरी करते हैं। शायद ही ऐसा कोई साल आया हो जब पति इस करवाचौथ के दिन मेरे साथ हों लेकिन उनसे फोन पर बात करती हूँ या उनकी फोटो देखकर व्रत खोलती और मुझे गर्व है कि मेरे पति सीमा पर डटे हुए हैं तभी तो हम सभी अपने घर में आराम से रहते हैं।
शैलजा देवी ने बताया कि हमारे पति राजौरी सीमा पर तैनात हैं बार्डर सामने होने के कारण कभी-कभी फोन पर बातचीत भी नहीं हो पाती इसी लिए फोटो देखकर ही व्रत खोलूंगी।
करवाचौथ की तयारी में लगी महिलाओं को खरीदारी करते समय उनके चहेरों पर महंगाई की मायूसी साफ देखने को मिल रही थी, वहीं दूसरी तरफ दुल्हन की तरह सजी दुकानों पर बैठे दुकानदार महंगाई को लेकर रोना रो रहे थे। साल भर से कर रही करवाचौथ के इन्तजार में बजार में खरीदारी को लेकर महिलाओं में महंगाई होने के कारण उनके चहेरों की चमक देखने को नहीं मिल रही थी। उन्होंने बताया कि महंगाई के कारण करवाचौथ का रंग फीका है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???