Patrika Hindi News
UP Election 2017

एेसे आएगी आलू की कीमतों में गिरावट, लोगों को मिलेगी राहत

Updated: IST potato
बड़े नोटबंद होने व कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने की समय सीमा निकट आते ही आलू के कीमतों में भारी गिरावट आ गई है

फर्रुखाबाद.बड़े नोटबंद होने व कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने की समय सीमा निकट आते ही आलू के कीमतों में भारी गिरावट आ गई है। कारोबारी कोल्ड स्टोरेज के आलू कम दामों में बेचने लगे हैं। इससे आलू का थोक भाव चार से 6 रुपये प्रति किलो आ पहुंचा है। ग्राहक पुराने आलू के भाव में आई गिरावट से बेहद खुश है। हालांकि बाजार में नया आलू भी कमोबेश दस्तक दे चुका है। नया आलू 10 रुपये प्रति किलो है।

आलू व्यापरियों की माने तो नए आलू की आवक बढ़ेगी तो पुराने आलू के मूल्य में गिरावट तय है। इधर कोल्ड स्टोरेज में आलू बचा रह गया तो फेंकने की भी नौबत आ गयी है। इसलिए कारोबारी चाह रहे हैं कि पुराने आलू को कम दामों में बेचकर लागत निकाल लें।

आलू के थोक विक्रेता परवेज आलम ने बताया कि बड़े नोटबंद होने से बाजार की हालत पतली हो गई है। लोग आलू को गोदाम से जल्द से जल्द हटाना चाहते हैं। कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने की समय सीमा 31 दिसंबर को समाप्त हो जाएगी। 31 दिसंबर के बाद से नए आलू कोल्ड स्टोरेज में रखे जाएंगे। इसलिए स्टोर से पुराने आलू को निकालना व उसे मार्केट में बेचना बेहद जरूरी है। इस वर्ष स्टोर में भारी मात्रा में आलू रखे गए थे।

नोटबंदी का जबरदस्त असर आलू व्यवसाय पर भी पड़ा है। मंडियों में आलू का स्टॉक कहीं अधिक है और बिक्री काफी कम। लिहाजा व्यापारियों को भारी घाटा हो रहा है। हालांकि इससे आलू का खुदरा मूल्य में गिरावट आई है। इससे आम आवाम को लाभ मिल रहा है। झुमरीतिलैया शहर में प्रतिदिन 4 से 5 ट्रक आलू का खपत प्रतिदिन होती थी, लेकिन वर्तमान में आधी हो गई है। यहां के व्यापारी ज्यादातर आलू बंगाल व यूपी से खरीद कर लाते है। अब भी बड़ी मात्रा में आलू मंडी में पड़ा है। इससे आलू के सड़ने की संभावना से भी व्यापारियों की चिंता बढ़ी हुई है।

इस समय खेतों में तैयार हो रही आलू की फसल पर भी नोटबंदी का असर पड़ा है। किसान फुटकर पैसे न होने और 500 व 1000 रुपए के नोट पर बंदिश की वजह से दवाओं का छिड़काव नहीं कर पा रहा है। वहीं पैसे न होने से कई जगह गेहूं के बीज खरीदने में भी परेशानी आ रही है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???