Patrika Hindi News

ये राजा सोने की अशर्फियां बिछा कर खेलते थे होली, केसर से बनते थे रंग

Updated: IST jaipur king madho singh second
कई बार इतिहास में कुछ ऐसी बातें भी होती हैं जो जनता को बरबस अपनी ओर खींच ही लेती हैं

कई बार इतिहास में कुछ ऐसी बातें भी होती हैं जो जनता को बरबस अपनी ओर खींच ही लेती हैं। ऐसा ही कुछ नजारा जयपुर राज्य की होली का भी होता था। यहां के राजा माधोसिंह द्वितीय ने वर्ष 1903 में होली के त्योहार पर वृंदावन में ब्रह्मचारी मंदिर के गर्भ गृह आंगन में सोने की हजारों अशर्फियां बिछाकर दान की थीं। मंदिर के संत गोविंदराम महाराज ने टोंक रिसाले के सैनिक माधोसिंह को जयपुर का महाराजा बनने का आशीर्वाद दिया था।

यह भी पढें: अगर आपके साथ भी होती हैं ये 10 बातें, तो भाग्य देगा आपका साथ

यह भी पढें: ग्रह और राशियों से भी पता चलता है व्यक्ति के स्वभाव का

महाराजा द्वारा स्वर्ण अशर्फियां बिछाने की देश विदेश में खासी चर्चा रही। माधोसिंह होली का त्योहार उत्साह से मनाते। जनता के साथ होली खेलने के बाद वे जनाना महलों में महारानियों व पड़दायतों की महफिल में शामिल होते। रिकार्ड के मुताबिक वर्ष 1913 में माधोसिंह ने अपना अधिकांश समय जनाना महलों की होली के उत्सव में बिताया। उनकी इस महफिल में नृत्यांगनाएं संगीत व नृत्य की महफिल में चार चांद लगा देती। सतरंगी मदनोत्सव की रस भरी राजसी धुलण्डी पर गुलाल अबीर के रंगों की सुगंध का दरिया बह उठता। कामकाज के लिए भागती दावडिय़ों के रेशमी घाघरों की सरसराहट गलियारों में सुनाई देती।

पानी के हौज में रंग और केसर घुलती। गुलाल गोटे और पीतल की नक्काशीदार पिचकारियों व डोलचियों से आपस में रंग डालते। वर्ष 1914 की होली पर महाराजा के लिए 9 नई पड़दायतें बनाई गईं। दूसरी पड़दायतों व पासवानों को सोने-चांदी के आभूषण भेंट किए गए। रियासत के कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि की घोषणा की गई। लालजी साहब गोपाल सिंह व गंगा सिंह को 50-50 हजार रुपए व छोटे लालजी साहब व आठ बाईजी लालों को दो-दो हजार रुपए की इनायत की।

यह भी पढें: सप्ताह के सातों दिन इस तरह बनाए शुभ, कमाएंगे अच्छा पैसा

यह भी पढें: अकाल मृत्यु, बड़े संकटों से बचाता है भगवान शिव का 'महामृत्युंजय मंत्र'

इतिहासकार नंद किशोर पारीक ने वर्ष 1914 की होली पर सुख निवास में हुए बड़े जलसे के बारे में लिखा है कि महाराजा माधोसिंह ने पड़दायत रूपरायजी को पांच हजार रुपए सालाना की आय का गांव व चेला रूपनारायण को गांव बख्शिश किया। बल्लभजी चेला और गोपीनाथजी का भी वेतन बढ़ा। खास मर्जीदान सेठ रामनाथ को एक गांव दे दिया। नायब रूपनारायण का वेतन 30 से बढ़ा 50 रुपए मासिक कर दिया।

यह भी पढें: रविवार को करें भगवान सूर्यदेव की पूजा, मिलेगा मनचाहा फल

यह भी पढें: हर समस्या और टोने-टोटके की काट हैं ये प्रयोग, लेकिन बार-बार न करें

यह भी पढें: तुलसी की ऐसे करें पूजा, घर में आएंगी, सुख-समपत्ति और लक्ष्मी

जयपुर फाउंडेशन के सियाशरण लश्करी के मुताबिक पहले महाराजा पर कोई रंग नहीं डाल सकता था। अंतिम शासक मानसिंह ने 13 मार्च 1941 को महाराजा पर भी गुलाल व गुलाल गोटे डालने फरमान जारी किया। महावीर नगर निवासी देवेन्द्र भगत ने बताया कि होली पर महाराजा की सुरक्षा में तीन सौ पुलिसकर्मी लगाए जाते। सवाई राम सिंह के समय 1876 में ग्वालियर महाराजा जियाजीराव सिंधिया होली खेलने जयपुर आए। उस समय भी ऐसा ही कुछ नजारा चारों तरफ बन गया था।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???