Patrika Hindi News

दूसरा घर कम कर सकता है आपके कर का बोझ 

Updated: IST tax burden
लोग कई कारणों से दूसरा घर खरीदते हैं। अमूमन दूसरा घर पूंजी वृद्धि के लिए निवेश के तौर पर, हॉलिडे होम के रूप में उपयोग करने या फिर किराए के जरिए नियमित आय शुरू करने अथवा निवेश पोर्टफोलियो को बेहतर बनाने के लिए लिया जाता है। निवेश के तौर पर अक्सर इक्विटी के बाद रियल एस्टेट पर सबसे अधिक रिटर्न मिलता है। इसलिए निवेशक को अपने निवेश पोर्टफोलियो में रियल एस्टेट को अवश्य शामिल करना चाहिए।

हर्षित मेहता, सीईओ, डीएचएफएल

लोग कई कारणों से दूसरा घर खरीदते हैं। अमूमन दूसरा घर पूंजी वृद्धि के लिए निवेश के तौर पर, हॉलिडे होम के रूप में उपयोग करने या फिर किराए के जरिए नियमित आय शुरू करने अथवा निवेश पोर्टफोलियो को बेहतर बनाने के लिए लिया जाता है। निवेश के तौर पर अक्सर इक्विटी के बाद रियल एस्टेट पर सबसे अधिक रिटर्न मिलता है। इसलिए निवेशक को अपने निवेश पोर्टफोलियो में रियल एस्टेट को अवश्य शामिल करना चाहिए।

अक्सर लोग अपना पहला घर रहने के लिए खरीदते हैं और उसके लिए खूब लोन लेते हैं। हर कोई जानता है कि होम लोन लेने पर आयकर पर लाभ मिलता है। लेकिन दूसरा घर खरीदने में क्या कर लाभ मिलता है? इस बारे में अक्सर ज्यादा चर्चा नहीं होती। दूसरे घर पर लागू होने वाले कर व इसके लाभों के बारे में कम जानकारी होने के कारण, अधिकतर लोग इस पर विचार भी नहीं करते। दूसरा होम लोन कठिन काम लगता है, लेकिन यदि इसे सही ढंग से लागू किया जाए तो आयकर पर अच्छी बचत मिल सकती है।

दूसरे होम लोन के प्रमुख लाभ
जो व्यक्ति दूसरा घर खरीदता है, वह लोन राशि पर अदा किए जाने वाले ब्याज के लिए धारा 24 के तहत छूट का दावा करने के योग्य होता है। दूसरे होम लोन पर चुकाए जाने वाले ब्याज पर छूट की कोई सर्वाधिक सीमा भी नहीं होती। हालांकि, इस मामले में व्यक्ति धारा 80 के तहत कोई छूट का दावा करने का हकदार नहीं होगा, क्योंकि दूसरे घर को सेल्फ-अक्युपाइड प्रॉपर्टी नहीं माना जाता है। उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति ने दूसरा घर खरीदा है और उसने ब्याज के तौर पर 1 लाख रुपए और 50,000 रुपए मूल राशि के तौर पर चुकाए हैं, तो वह 1 लाख रुपए पर आयकर लाभ का दावा कर सकता है। हालांकि, ब्याज पर कर छूट आयकर प्रशासन द्वारा निर्धारित कुल सीमा के अधीन है, जो कि वर्तमान में 2 लाख रुपए है। हालांकि दोनों होम लोन को मिलाकर 2 लाख से अधिक की सीमा को पार नहीं किया जा सकता।

यदि आपके दूसरे घर का निर्माण चल रहा है तब क्या होगा? आप पूर्व-निर्माण अवधि के दौरान ब्याज पर छूट का लाभ उठा सकते हैं। जिस व्यक्ति ने निर्माणाधीन घर के लिए दूसरा होम लोन लिया है, वह पूर्व-निर्माण अवधि के दौरान अदा किए जाने वाले कुल ब्याज के 20 प्रतिशत पर कर छूट प्राप्त कर सकता है। इस कर लाभ का फायदा उठाने की सर्वाधिक समय सीमा 5 वर्ष है। उदाहरण के लिए, यदि निर्माणाधीन अथवा पूर्व-निर्माण अवधि के दौरान ब्याज के लिए दूसरा होम लोन कर लाभ 1.5 लाख रुपए है तो व्यक्ति केवल 5 वर्ष के लिए 30,000 रुपए प्रति वर्ष का दावा कर सकता है।

कोई भी व्यक्ति स्थानीय प्रशासन को अदा किए गए कर पर भी कर छूट प्राप्त कर सकता है। यह लाभ उस वित्तीय वर्ष में मिलेगा, जिस वर्ष में कर चुकाया गया है। इसमें निगम कम अथवा संपत्ति कर शामिल हैं। इसे उपार्जन आधार पर, न कि भुगतान आधार पर प्राप्त कर सकते हैं। संपत्ति की मरम्मत एवं रखरखाव पर भी कर लाभ प्राप्त किया जा सकता है। यह एक निश्चित छूट है जिसके लिए व्यक्ति दावा कर सकता है। इसमें व्यक्ति वास्तव में कितना खर्च करता है, उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। यह फ्लैट 30 प्रतिशत होता है और प्रॉपर्टी के निष्पक्ष रेंटल मूल्य के लिए संपत्ति कर काटने के बाद इसकी अनुमति मिलती है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???