Patrika Hindi News

Video Icon जानिए, सुहाग नगरी के व्यापारियों का क्या कहना है योगी सरकार के 100 दिन पर

Updated: IST Yogi Adityanath
योगी सरकार के 100 दिन पर सुहाग नगरी के व्यापारियों की प्रतिक्रिया निराशाजनक है।

फिरोजाबाद। योगी सरकार भले ही अपने सौ दिन पूरे होने पर गर्व महसूस कर रही होे लेकिन यहां व्यापारियों का व्यापार चौपट होने के कगार पर पहुंच गया है। दुकानदार हाथ पर हाथ रखे बैठे हैं तो वहीं बड़े व्यापारी छापेमारी से परेशान हैं।

सोचा था आएंगे अच्छे दिन

व्यापारी राजीव कुमार का कहना है कि सोचा ये था कि योगी सरकार मेें अच्छे दिन आएंगे। व्यापार दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की करेंगे लेकिन ऐेसा नहीं हुआ। जो कमाई होे रही थी वह भी बंद कर दी गई। वर्तमान में दुकान का किराया निकालना मुश्किल हो रहा है।

बाजार मेें जिन दुकानों पर कभी हाथ बंद नहीं रहता था। वर्करों को दोपहरी में भी आराम करने की फुर्सत नहीं होती थी वहीं वर्तमान में हालात बदल गए हैं। दुकानों से ग्राहकों ने दूरियां बनाना शुरू कर दी है। जहां 100 ग्राहक दुकान पर आते थे, वहीं आज उनकी संख्या घटकर 10 से 20 ही रह गई है।

हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं टेलर

सीमा टेलर के संचालक राजू गुप्ता कहते हैं कि रमजान का महीना चल रहा है। इस महीने में उनके पास अन्य वर्षों में बहुत काम रहता था लेेकिन इस वर्ष दो चार ग्राहकों को छोड़कर कोई कपड़े सिलवाने नहीं आया। सहालग भी चल रहे हैं उनमें भी काम नजर नहीं आ रहा है।

छापेमारी से पड़ा असर

योगी सरकार के इन सौ दिन में कई बड़े व्यापारियों के यहां छापेमारी हुई। इनकम टैक्स की छापेमारी से कई प्रतिष्ठान बंद हो गए। तो कइयों ने अपना व्यापार ही बदल दिया। फिरोजाबाद में चूड़ी के कारखानों में भी छापेमारी हुुई। जिसके बाद कई कारखानों में काम ठप पड़ गया।

ये व्यापार हैं चौपट होने के कारण

व्यापार चौपट होने के पीछे दुकानदार का कहना है कि नोटबंदी के बाद व्यापार में आज तक मंदी है। ऐसे में लोग उतना ही सामान खरीदते हैं जितनी की आवश्यकता है। वहीं टैक्स लगाए जाने से व्यापार प्रभावित हो रहा है। मजदूरी महंगी हो गई है जबकि मुनाफा कम हो गया है। पहले टैक्स भी नहीं देना पड़ता था, मजदूर भी कम पैसों में मिल जाते थे। सामान में मुनाफा भी अधिक था।

देखें वीडियो

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???