Patrika Hindi News

World cup 2015 में सट्टेबाज से मिला था बांग्लादेशी खिलाड़ी?

Updated: IST
पूछताछ के बाद हुसैन ने कबूला कि वह एक बुकी से मिलने गए थे जिन्होंने उन्हें होटल के करीब छोड़ दिया

मेलबर्न। बांग्लादेश ने मंगलवार को उन मीडिया रिपोर्टो को खारिज किया जिसमें दावा किया गया है कि टीम के गेंदबाज अल अमीन हुसैन एक भारतीय सट्टेबाज के साथ मुलाकात करने के कारण विश्व कप से बाहर किए गए हैं। टीम प्रबंधन द्वारा रविवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया था कि हुसैन को गत सप्ताह ब्रिस्बेन में नियमों के उल्लंघन के लिए वापस घर भेज दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि वर्षा के कारण यह मैच रद्द हो गया था। लेकिन ढाका आधारित अंग्रेजी अखबार और अन्य मीडिया रिपोर्टो में दावा किया गया है कि 25 वर्षीय हुसैन कुछ समय से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की भ्रष्टाचार रोधी और सुरक्षा इकाई (एसीएसयू) की निगरानी में थे। हालांकि बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के मीडिया प्रमुख जलाल यूनुस ने जोर देकर कहा कि देर रात बाहर रहने के कारण अनुशासनहीनता के आरोप में हुसैन को विश्व कप से बाहर किया गया है न कि भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते।

गंभीर मुद्दा

उन्होंने मुझे सब कुछ बताया। अगर उन्हें कोई मामूली नियमों का उल्लंघन किया होता तो उन पर केवल जुर्माना लगाकर छोड़ दिया जाता, लेकिन यह एक ज्यादा गंभीर मुद्दा है। खालिद महमूद, बांग्लादेश के टीम प्रबंधक के हवाले से स्थानीय अखबार ने लिखा

अलग-अलग दिए बयान

मीडिया रिपोर्टो के अनुसार एसीएसयू ने हुसैन से कुछ दिनों पहले कैनबरा में बात की थी जहां हुसैन ने चेन्नई में एक भारतीय सट्टेबाज से मिलने की बात कबूली थी। लेकिन एसीएसयू ने हुसैन के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाए हैं। बांग्लादेशी अखबार ने एक अज्ञात अधिकारी के हवाले से बताया कि टीम प्रबंधन ने हुसैन से देर रात बाहर रहने का कारण पूछा तो उन्होंने तीन बार अलग-अलग जवाब दिए।

हुसैन ने पहले दावा किया कि वह सिम कार्ड खरीदने गए थे जिससे संदेह और बढ़ गया क्योंकि उनके पास पहले से ही एक सिम कार्ड है।

हुसैन ने तब दावा किया कि वह एक नाइट क्लब गए थे, लेकिन बीसीबी इस कहानी को मानने के लिए तैयार नहीं है कि खराब मौसम में वह अकेले नाइट क्लब गए। उन पर संदेह इसलिए भी बढ़ गया कि वह टैक्सी के बजाय पैदल होटल पहुंचे।

लगातार पूछताछ के बाद हुसैन ने आखिकार कबूला कि वह एक बुकी से मिलने गए थे जिन्होंने उन्हें होटल के करीब छोड़ दिया। इस कबूलनामे के बाद हुसैन को तुरंत वापस बांग्लादेश भेजने का फैसला किया गया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???