Patrika Hindi News

राजिम कुंभ: भक्तिमय माहौल में कलाकारों की मनमोहक प्रस्तुतियों ने बांधा समां

Updated: IST Rajim kumbh
राजिम महाकुंभ कल्प के मुख्य मंच पर छत्तीसगढ़ के कलाकारों ने मनमोहक प्रस्तुतियों से दर्शकों का मन मोह लिया। कुंभ के पांचवें दिन सुप्रसिद्ध गायिका स्वर कोकिला छाया चंद्राकर लोककला मंच के कार्यक्रम को देखकर दर्शक झूम उठे

गरियाबंद/नवापारा (राजिम). राजिम महाकुंभ कल्प के मुख्य मंच पर छत्तीसगढ़ के कलाकारों ने मनमोहक प्रस्तुतियों से दर्शकों का मन मोह लिया। कुंभ के पांचवें दिन सुप्रसिद्ध गायिका स्वर कोकिला छाया चंद्राकर लोककला मंच के कार्यक्रम को देखकर दर्शक झूम उठे। कार्यक्रम की शुरुआत में भाटापारा के प्रहलाद शर्मा ने भजनों की मनमोहक प्रस्तुति दी। वहीं देवर तिल्दा के फूलसिंग कन्नौज द्वारा पंडवानी के जरिए महाभारत में पाण्डवों की कहानी विस्तार से बताई। राजिम के सागर निषाद अखाड़ा के हैरतअंगेज करतब देख, दर्शकों को अचंभित कर दिया। वहीं रायपुर के गौतम दास गुप्ता द्वारा भजन संध्या प्रस्तुत की गई। स्थानीय कलाकार भरत कुमार साहनी ने बैंड व आर्केस्टा गु्रप द्वारा गीतों की आकर्षक दी। नाईट स्टार कलाकार मनमोहन ठाकुर ने मंच में आते ही दर्शकों से अभिनंदन लेना शुरू कर दिया। इसके बाद दिलीप षडंगी ने तोर नथनी के मोती रे... गीत को गाया। साथ ही बजरंग बली की भजन प्रस्तुति की गई। मोर छइयां-भूइंया के संवाद भी बोले, जिससे दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए।

इसके बाद डी भास्कर एवं मंजू ठाकुर ने भजन संध्या की प्रस्तुति दी गई।इसी कड़ी में स्थानीय सेठ फूलचंद अग्रवाल कॉलेज के नयना पहाडिय़ा के नेतृत्व में नृत्य नाटिका प्रस्तुत की गई। प्रशांत ठक्कर ने ऐसी लागी लगन, मीरा हो गई मगन... और हनुमान चालिसा की प्रस्तुति दी। इससे कुंभ का माहौल भक्तिमय हो गया। कार्यक्रम के अंतिम चरण में लोकमंच के लोकछाया कार्यक्रम में स्वर कोकिला छाया चंद्राकर द्वारा जय हो छत्तीसगढ़ महतारी गीत की प्रस्तुति दी गई।इसके बाद आदिवासी कर्मा गीत, देवार गीत की प्रस्तुति के साथ खिनवा नई मांगो मेहा... छत्तीसगढ़ी गीत को सुनकर मेले में उपस्थित दर्शक झूम उठे।

मुम्बई के लोकमंच की शानदार प्रस्तुति आज
राजिम महाकुंभ कल्प के मुख्य मंच पर 17 फरवरी को फिंगेश्वर, बोरिद से यशोमति सेन का सारथी का सुमधुर पंडवानी, गरियाबद मालगांव से जितेन्द्र सिंह राजपूत के द्वारा जसगीत झांकी, रायपुर से मणीराव द्वारा शानदार नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा। दुर्ग के संतोष निषाद द्वारा लोकमंच, रायपुर से शंभु सोनकर के द्वारा जसलोक, रायपुर से मनोज सेन द्वारा लोक कलामंच की प्रस्तुति देंगे। बागबाहरा से निरंजन साहू के द्वारा फारचून नेत्रहीन, गण्डई से पीसी लाल यादव के द्वार दूध मोंगरा और मुंबई के स्टार कलाकर रमादत्त जोशी द्वारा लोकमंच की शानदार प्रस्तुति दी जाएगी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???