Patrika Hindi News

नीतीश के नेतृत्व में जदयू राष्ट्रीय स्तर पर करेगी गोलबंदी

Updated: IST Nitish Kumar
राजगीर के कन्वेंशन हॉल में जदयू की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में सीएम नीतीश कुमार की ताजपोशी हुई...

राजगीर। राजगीर के कन्वेंशन हॉल में जदयू की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में सीएम नीतीश कुमार की ताजपोशी हुई। साथ ही पार्टी को राष्ट्रीय क्षितिज पर विस्तार देने के उद्देश्य से तीन प्रस्ताव पारित किये गये।

परिषद की कार्यवाही की जानकारी देते हुए पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि भाजपा को हराने के लिए जदयू किसी भी हद तक जा सकता है। इसके लिए आगे की रणनीति बनाने की पूरी जिम्मेवारी नये अध्यक्ष नीतीश कुमार को दी गई है।

उन्होंने साफ कहा कि जदयू छोटी पार्टी है इस कारण नीतीश कुमार को पीएम पद के उम्मीदवार के रूप में न ही पार्टी पेश करेगी और न ही ऐसा कोई प्रस्ताव परिषद में लाया गया। लेकिन नीतीश कुमार के विकासशील व साफ-सुथरी छवि के कारण कई राज्यों के छोटे-छोटे दल और अमन-चैन के पक्षधर नीतीश कुमार को पीएम के रूप में देखना चाहते हैं। इसे पार्टी पूरी तरह भुनाने का प्रयास करेगी।

त्यागी ने कहा, गैर भाजपा दलों में सबसे बेहतर और चहेते चेहरे के रूप में नीतीश कुमार का नाम आता है। उनकी साफ-सुथरी छवि के कारण ही अध्यक्ष बनाया गया है ताकि जदयू ऊंचाइयों को छूने में सफल हो। राष्ट्रीय अध्यक्ष कुमार के भाषण के साथ सम्मेलन का समापन हो गया।

20 राज्यों से पहुंचे प्रतिनिधि

अधिवेशन में भाग लेने के लिए दिल्ली, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उड़ीसा, हरियाणा, झारखंड, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्रप्रदेश, केरवल, तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, गुजरात, मणिपुर, उत्तराखंड, तेलंगाना व बिहार के विभिन्न जिले से प्रतिनिधि आये हैं।

जदयू का गठन 2003 में हुआ था

जदयू का गठन 30 अक्टूबर 2003 को हुआ था। जनता दल, लोक शक्ति पार्टी व समता पार्टी को मिलाकर जदयू का गठन हुआ। स्थापना काल से 23 अप्रैल, 2016 तक शरद यादव इसके राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे। 23 अप्रैल को राष्ट्रीय परिषद की बैठक में सीएम नीतीश कुमार को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की घोषणा हुई।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???