Patrika Hindi News
Bhoot desktop

सावधान! बैंक में ही घात लगाए बैठे हैं बदमाश, एजेंट से लूटे 4.38 लाख

Updated: IST loot
लुटेरे कलेक्शन एजेंट को बैंक के भीतर ही देख रहे थे और उनके बाहर निकलते ही वारदात को अंजाम दे दिया गया

गाजियाबाद। जिले में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं, जिसके चलते गुरुवार को बदमाशों ने दिनदहाड़े बैंक में पैसे जमा कराने आए एक कलेक्शन एजेंट से 4 लाख 38 हजार रुपये से भरा बैग लूट लिया। दरअसल, कलेक्शन एजेंट डिंपल वर्मा आरडीसी स्थित आईसीआईसी बैंक में रुपये जमा कराने आए थे। वारदात के बाद पुलिस बैंक में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। पुलिस का दावा है जल्द ही लुटेरे पुलिस गिरफ्त में होंगे।

बैंक में ही मौजूद थे लुटेरे

गाजियाबाद के थाना कविनगर इलाके की पॉश कॉलोनी में स्थित आईसीआईसी बैंक में एक तरफ तो लोगों की भीड़ पैसा जमा कराने और निकालने के लिए लगी थी, वहीं दूसरी तरफ बदमाश घात लगाए बैंक में ही मौजूद थे। गुरुवार को मनीग्राम ट्रांजेक्शन कम्पनी का एजेंट डिंपल वर्मा कम्पनी का कलेक्शन जमा करने आया था। उसे अलग-अलग खातों में 4 लाख 38 हजार रुपये जमा कराने थे। उसने बैंक में ही अलग-अलग खातों की स्लिप भरनी शुरु की।

बाहर निकलते ही लूट लिया

पीड़ित कलेक्शन एजेंट की मानें तो जब एजेंट अपनी स्लिप भर रहा था तो बैंक में ही घात लगाए बैठा बदमाश एजेंट की सारी कार्यवाही को देख रहा था। एजेंट को अपने आधारकार्ड की फोटो कॉपी करानी थी, जिसके लिए वह बैंक के बाहर निकल गया। जब वह फोटो कॉपी कराकर वापस लौटा तो एक युवक ने पीछे से उसके कंधे में हाथ मारा और रुकने के लिए कहा। इस बीच लुटेरे ने एजेंट के कंधे पर टंगे हुए बैग पर झपट्टा मारा और पास में खड़ी एक बाइक पर बैठकर मौके से फरार हो गया।

सीसीटीवी खंगाल रही है पुलिस

वारदात के बाद एजेंट ने काफी शोर मचाया लेकिन जब तक लोग या पुलिस कुछ समझ पाती तब तक लुटेरे बैग लेकर फरार हो गए। दिनदहाड़े हुई इस लूट से इलाके के लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। सभी लोग सकते में हैं। हालांकि, वारदात की सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंचा और पीड़ित से सारी जानकारी ली। पुलिस बैंक में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है। पुलिस का दावा है कि लुटेरों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???