Patrika Hindi News
UP Election 2017

Photo Icon कैश खत्म होने के बाद बवाल से दहशत में कर्मचारी, अंदर से बंद किया बैंक

Updated: IST Cash crisis violence 4
बैंक से पैसा न मिलने पर दो घंटे तक वाराणसी-गोरखपुर राष्ट्रीय राजमार्ग किया जाम।

गाजीपुर. यूपी के गाजीपुर जिले के महाराजगंज यूनियन बैंक में बुधवार को पैसा नहीं मिलने पर कतार में लगे लोगों का गुस्सा कुछ ऐसा फूटा कि बैंक के कर्मचारी दहशत में आ गए। कर्मचारियों ने खुद को बचाने के लिये अंदर से बैंक को बंद कर लिया। वहां हंगामा मचाने के बाद भी गुस्साई भीड़ की नाराजगी कम नहीं हुई और लोग सीधे राष्ट्रीय राजमार्ग 29 जा पहुंचे। एनएच जाम कर दिया। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर तो पहुंच गई, लेकिन दो घंटे बाद जाकर जाम खुलवाया जा सका।

Cash crisis violence 1
गाजीपुर में बैंक के बाहर हंगामा

बताया गय है कि यूनियन बैंक की महाराजगंज शाखा के बाहर पैसा निकालने वालों की लम्बी कतार लगी हुई थी। पर जब काफी देर लाइन में लगने के बाद भी लोगों को वहां रुपये नहीं मिले तो उनके सब्र का बांध टूट गया। लोग हंगामा करने लगे। भीड़ का हंगामा देखकर बैंक कर्मचारी और मैनेजर बुरी तरह से डर गए। किसी तरह से कर्मचारियों ने बैंक के अंदर ही खुद को बंद कर लिया।

Cash crisis violence 2
गाजीपुर में बैंक के बहर हंगामा

कर्मचारी अंदर बंद रहे और भीड़ बाहर हंगामा करती रही। जब मीडिया के लोग पहुंचे तो बैंक मैनेजर नितेश रंजन ने अंदर से ही बतय कि बैंक में नगदी है ही नहीं। इसीलिये लोगों को भुगतान करने में परेशानी आ रही है। शाम तक रुपये आने की संभवना है। उधर गुस्साए लोग बैंक के बाहर से वाराणसी से गाजीपुर होते हुए गोरखपुर केा जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 29 जा पहुंचे। वहां उन्होंने एनएच जाम कर दिया। इसकी सूचना पुलिस को मिली तो तत्काल स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और लोगों को समझाने में जुट गई। लोगों में इतना गुस्सा था कि वह पुलिस के समझाने के बावजूद मानने को तैयार नहीं थे। इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट विजय शंकर तिवारी ने किसी तरह से लोगों को समझाकर दो घण्टे बाद जाम समाप्त कराया।

Cash crisis violence 3
गाजीपुर में बैंक के बाहर जमा भीड़

सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि बैंक में नगदी न होने के चलते यह समस्या आई। उधर राजमार्ग जाम कर रही भीड़ में शामिल लोगों ने कहा कि किसी के घर शादी पड़ी है तो किसी को इलाज के लिये पैसे चाहिये। पर बैंक जाने पर भी खाली हाथ ही लौटना पड़ता है। सीमा कुशवाहा ने बताया कि हमारी सास बीमार है उनकी इलाज के लिए पैसे की आवश्यकता है। पैसों के लिए चार दिन से बैंक के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन पैसे नहीं मिले। वहीं भुखली देवी ने बताया कि कल हमारी बिटिया का तिलक जाना है, जिसके लिए पैसे की जरूरत है। दो माह पहले हमने खेत बेचा था कि समय आने पर उन पैसों को बैंक से निकालकर बिटिया की शादी करेगें, लेकिन चार दिन से बैंक के चक्कर लगाने के बाद अब मैनेजर ने कह दिया है कि पैसा नहीं है। उन लोगों का आरोप है कि बड़े और रसूखदार लोगों को बैंक से पैसा दिया जा रहा है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???