Patrika Hindi News

> > > > MLA Susheel Singh Attack on Mukhtatr Ansari and his brothers

UP Election 2017

बाहुबली मोख्तार अंसारी के गढ़ में BJP विधायक सुशील सिंह की ललकार, कहा इन्हें चैराहे पर खड़ाकर गोली मारनी चाहिये

Updated: IST MLA Susheel Singh and Manoj Sinha
रेल राज्यमन्त्री मनोज सिन्हा और बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल।

गाजीपुर. नेताओं को जब मंच मिलता है तो वो कितने बेलगाम हो जाते हैं इसकी बानगी मंगलवार को यूपी के गाजीपुर में देखने को मिली। यहां भाजपा के मंच से बाहुबली विधायक ने बिना नाम लिये बाहुबली मोख्तर अंसारी बंधुओं को चैराहे पर खड़ा करके गोली मारने तक की बात कह दी। इतना ही नहीं इसी मंच पर केन्द्रीय रेल राज्यमन्त्री मनोज सिन्हा भी मौजूद थे और उन्होंने भी भाषण देते समय सारे नियम और नैतिकता ताक पर रख दी। अंसारी बंधुओं के गढ़ मोहम्मदाबाद में उन्हीं के इसलामिक आतंकवाद का कब्जा बताया और उसे खत्म करने की बात कही।

बाहुबली बृजेश सिंह के भतीजे सकलडीहा विधायक और बीजेपी नेता सुशील सिंह व केन्द्रीय रेल राज्यमन्त्री मनोज सिन्हा मोहम्मदाबाद के पूर्व भाजपा विधायक स्व. कृष्णानन्द राय की पूण्यतिथि के मोके पर आयोजित शहादत दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे थे। इसका आयोजन तहसील के शहीद पार्क में किया गया था। मनोज सिन्हा कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। कार्यक्रम में स्व. कृष्णानन्द राय की पत्नी व पूर्व विधायक अल्का राय, भतीजे अंगद राय, बलिया सासद भरत सिंह के साथ ही कई बीजेपी विधायक और नेता मौजूद थे।

चैराहे पर खड़ा करके गोली मार देना चाहिये: सुशील सिंह
बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह के भतीजे सुशील सिंह ने जब मंच पर माइक संभाला तो अंसारी बंधुओं पर सीधा हमला बोल दिया। बिना नाम लिये अंसारी बंधुओं उन्होंने मुलायम सिंह यादव को भी निशाने पर रखा। उन्होंने तत्कालीन मुलायम सिंह यादव की सरकार पर स्व. कृष्णानन्द राय की हत्या कराने जैसे गंभीर आरोप लगाए। कहा कि सबको पता था, सरकार को भी पता था कि स्व. कृष्णानन्द राय की हत्या वाली घटना होनी थी। खुद उन्हें भी पता था कि घटना हो सकती है, बावजूद वह डरे नहीं। इसी दौरान बाहुबली मोख्तार अंसारी व उनके भाइयों को कभी बसपा तो कभी सपा में जाने को लेकर गिरगिट कहा। बोले कि ये लोग अपने फायदे के लिये कुछ भी करा सकते हैं और कहीं भी जा सकते हैं। इनको पता है कि अगली सरकार बीजेपी की बनने जा रही है और जीतना मुश्किल है, इसीलिये वह भागकर सपा में गए हैं। कहा कि मुलायम सिंह यादव अंसारी बंधुओं के परिवार को शरीफों का बड़ा परिवार कहते हैं, तो बसपा सुप्रीमो मायावती इन्हें गरीबों का मसीह कहती हैं। ऐसे लोगों को तो चैराहे पर खड़ाकर गोली मार देना चाहिये, तो भी कोई दोष नहीं होगा।

देखें वीडियो

मोहम्मदाबाद में इस्लामिक आतंकवाद: मनोज सिन्हा
कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के तौर पर संबोधित करते हुए विवादित बयान दिया। उन्होंने ऐसा कहा मानो मोहम्मदाबाद इस्लामिक आतंकवाद का दंश झेल रहा हो। यह उन्होंने इशारों-इशारों में बाहुबली अंसारी बंधुओं के लिये कहा, हालांकि उन्होंने नाम नहीं लिया। डर दिखाया और कहा कि हालात एक बार फिर 2005 वाले हो गए हैं। उन इस्लामिक आतंकवादी संगठित होकर फिर सरकार से हाथ मिला लिया है, जिन्होंने 2005 में विधायक स्व. कृष्णानन्द राय की हत्या की थी। उन्होंने बिना नाम लिये हुए अंसारी बंधुओं के गढ़ में ही उनके खात्मे की बात की। उन्होंने लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि यूपी में भाजपा की सरकार का बनना तय है और आप लोगों के सहयोग से मुहम्मदाबाद से इस खौफ और इस्लामिक आतंक को खत्म करना है।

देखें वीडियो

भतीजे अंगद राय को मिले बीजेपी से टिकट: अल्का राय
पूर्व विधायक स्व. कृष्णानन्द राय की पत्नी अल्का राय ने इस दौरान अपने भतीजे के लिये मोहम्मदाबाद विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट की मांग की। उन्होंने कहा कि स्व. कृष्णानन्द राय ने हमेशा क्षेत्र के विकास के बारे में सोचा। उनके कुछ अधूरे काम हैं उन्हें पूरा करने के लिये भतीजे अंगद राय के लिये बीजेपी के टिकट की मांग कर दी।

2005 में हुई थी कृष्णानन्द राय की हत्या
मोहम्मदाबाद से भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या 29 नवंबर 2005 को भांवरकोल थाने के बसनिया चट्टी के पास पुलिया पर कर दी गई थी। इस घटना में भाजपा विधायक के अलावा उनके काफिले के छह लोग भी मारे गए थे। इस प्रकरण में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी, पूर्व सांसद अफजाल अंसारी, माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी, अताउरर्रहमान, संजीव महेश्वरी उर्फ जीवा, फिरदौस, मोहम्मदाबाद चेयर मैन एजाजुलहक व राकेश पाण्डेय उर्फ हनुमान आदि लोग आरोपित हैं। इस मामले में पूर्व सांसद अफजाल अंसारी को हाईकोर्ट से जमानत मिल चुकी है। वहीं एक दूसरा आरोपी फिदौस मुंबई में पुलिस मुठभेड़ के दौरान मारा जा चुका है। वहीं पांच लाख का इनामी अताउर्ररहमान आज भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है और अन्य सभी आरोपी जेल में निरूद्ध है। फिलहाल पूरे मामले की जांच सीबीआई की दिल्ली कोर्ट में चल रही है। मामले की पैरवी केंदीय मंत्री और स्व.कृष्णानंद राय के करीबी मनोज सिन्हा कर रहे हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???