Patrika Hindi News
Bhoot desktop

13 प्रत्याशियों का पर्चा खारिज, जमकर हुआ हंगामा, बेवजह पर्चा खारिज करने का आरोप

Updated: IST Ruckus
गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा में पर्चा खारिज होने से प्रत्याशियों का हंगामा। कोर्ट में जाने की प्रत्याशियों ने दी चेतावनी।

गोरखपुर. यूपी केगोरखपुर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में 13 प्रत्याशियों के पर्चे खारिज कर दिए गए हैं। बेवजह पर्चा खारिज करने का आरोप लगाकर प्रत्याशियों ने जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में देर शाम को हंगामा करने के साथ डीएम से आपत्ति भी दर्ज कराई। पर्चा खारिज करने की दी गई दलीलों से असंतुष्ट प्रत्याशियों ने हाई कोर्ट की शरण में जाने की भी बात कही।

छठवें चरण के लिए शुरू हुई चुनाव प्रक्रिया में गुरुवार को नामांकन पत्र जांचें गए। दोपहर से ही गोरखपुर ग्रामीण से नामांकन करने वाले कई प्रत्याशी जांच के तरीकों से असंतुष्ट दिख रहे थे। शाम होते होते जैसे ही पता लगा कि 13 प्रत्याशियों के नामांकन खारिज हो गए हैं, कइयों का सब्र जवाब दे गया। परचा खारिज होने से नाराज कई प्रत्याशी व समर्थक परिसर में नारेबाजी कर हंगामा करने लगे। काफी देर तक अफरातफरी मची रही। इसके बाद प्रत्याशियों ने डीएम से मिलकर शिकायत दर्ज कराई। लेकिन कोई हल नहीं निकल सका। हंगामा करने वाले प्रत्याशियों ने कहा कि वह लोग अब न्यायालय की शरण में जाएंगे।

दोपहर में ही आरोप लगाया था कई प्रत्याशियों ने
ग्रामीण से नामांकन किये एआईएमआईएम समर्थित प्रत्याशी का आरोप था कि वह मौजूद थे लेकिन जांच के दौरान न कुछ पूछा गया न यह बताया गया कि किस कमी की वजह से पर्चा खारिज किया गया है। वहीं, आप समर्थित निर्दल प्रत्याशी डॉ.शैलेश सिंह ने आरोप लगाया कि नामांकन पत्र में स्पष्ट है कि जो कॉलम लागू न् हो उसे काट दिया जाए लेकिन जांच कर्ता ने यह कह पर्चा खारिज किया है कि जो लागू न हो उसके आगे शून्य लिखना चाहिए था। डॉ.सिंह ने कहा कि जो निर्देश लिखे थे उसी के आधार पर मैंने पर्चा भरा था लेकिन अब नया नियम बताया जा रहा। कम्युनिस्ट पार्टी के प्रत्याशी राजेश साहनी ने आरोप लगाया कि उनके प्रस्तावक का नाम वोटर लिस्ट में दो क्रमांक पर है यह निर्वाचन विभाग की गड़बड़ी है। यह आधार बना मेरा पर्चा खारिज किया गया जो न्यायपूर्ण नहीं है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???