Patrika Hindi News

> > > ’I don’t want it to be my turn to die’: the powerful speech from a Yemeni girl the UN should be talking about

Video Icon यमन: 10 साल की यारा का मैसेज दुनिया को किया सोचने पर मजबूर, देखें वीडियो

Updated: IST Yara, A Child From Yemen
मैं नहीं चाहती कि मौत अगला शिकार मुझे बनाए, मैं अभी बच्ची हूं, अपनी पूरी जिंदगी जीना चाहती हूं

सना। यमन में जारी युद्ध की भयावहता को बयान करता हुआ दस साल की लड़की का संदेश पूरी दुनिया को सोचने पर मजबूर कर दिया है। दस साल की यारा ने इस मैसेज को अपने मां के फोन में रिकॉर्ड किया और सोशल मीडिया पर इसे डाल दिया ताकि संयुक्त राष्ट्र महासभा में शामिल होने वाले दुनिया के सारे नेताओं का इस पर ध्यान जाए और समस्या का समाधान करने के लिए कोई सार्थक कदम उठे।

यारा ने अपने मैसेज के जरिए दुनिया को बताने की कोशिश की है कि यमन की क्या स्थिति है। युद्ध ने देश की क्या हालत कर दिया है। यारा ने अपने मैसेज में साफ-साफ कहा है कि वो मौत का अगला शिकार नहीं बनना चाहती। उनके मन में ये डर तब से बैठा है जब पिछले साल मार्च में यमन की राजधानी सना पर हमले शुरू हो गए थे। सोशल मीडिया पर आने के बाद यारा के इस मैसेज को हजारों बार देखा जा चुका है।

कुछ इस तरह है यारा का मैसेज

26 मार्च 2015, रात के लगभग 12 बजे होंगे। अगले दिन मेरी सेकेंड टर्म की म्यूजिक कॉन्सर्ट होने वाली थी। मैं इस कॉन्सर्ट को लेकर बहुत उत्साहित थी। पर जब सुबह उठकर तैयार हुई तो मां ने मुझे रोका और बताया यमन के खिलाफ युद्ध शुरू हो गया है। सना पर सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन ने हमले शुरू कर दिए थे। देश की इतनी बुरी स्थिति के लिए सऊदी अरब ही जिम्मेदार है।

मैं नहीं चाहती कि मौत अगला शिकार मुझे बनाए, मैं अभी बच्ची हूं, अपनी पूरी जिंदगी जीना चाहती हूं। मैं डॉक्टर बनना चाहती हूं, इंजीनियर बनना चाहती हूं। मैं अपना कद बढ़ना चाहती हूं ताकि दुनिया में महत्वपूर्ण बन सकूं। विद्रोहियों को मैं गलत नहीं मानती वो अपने हक के लिए लड़ रहे हैं। उन्हें जबरन पकड़ा जा रहा है और हथियार डालने के सिवा कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा है। अमरीका को इस मामले में दखल देनी चाहिए। ताकि, सऊदी को रोका जा सके, युद्ध का खात्मा हो सके। अगर अमरीका युद्ध रोकने में मदद नहीं कर सकता है तो सऊदी को मदद देना बंद करे। और उन्हें हथियार दे, शायद इससे युद्ध रुक सके।

पिछले 18 महीनों से मेरा स्कूल बंद है। मैं, मेरा भाई और माता-पिता सब बेसमेंट के एक ही रूम में जिंदगी बिता रहे हैं। हर वक्त अपना सामान, पासपोर्ट और पैसे तैयार रखते हैं, पता नहीं कब सबकुछ छोड़कर भागना पड़े। मेरे पापा की नौकरी भी चली गई है। बड़ी मुश्किल से एक-एक दिन कट रहा है। शुरुआती दिनों में, मै रोती थी और पापा-मम्मी से कहती थी कि यहां से भाग चलें, अब वो भी संभव नहीं। एयरस्पेस बंद हो चुकी है, जमीन और समुद्री सीमाओं पर सऊदी का नियंत्रण है। सऊदी झूठ बोल रहे हैं। उन देशों को गुमराह कर रहे हैं जो हमें तबाह करने के लिए पैसे दे रहे हैं। वो हमारी मदद नहीं कर रहे, हमें खत्म कर रहे हैं, हमारे स्कूलों, फैक्ट्रियों, बच्चों सब को। मेरा परिवार, सबके परिवार एक दिन मरने वाले हैं। मुझे लगता है अमरीकी इस युद्ध को रोक सकते हैं, प्लीज,प्लीज, प्लीज..यमन के खिलाफ युद्ध रोक दो। हर दिन दुखी हो जाती हूं, हजारों लोगों को यू हीं बेवजह मरते देखकर। (इसके बाद यारा जोरों से रोने लगती हैं)।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे