Patrika Hindi News

NCERT से तीन गुना महंगी CBSE की किताबें, क्या ऐसे आएगी शिक्षा में समानता

Updated: IST Ncert and cbse Books
एनसीईआरटी की कक्षा एक से पांचवीं तक की किताबें बाजार में 150-250 रुपए में मिल रही है। वहीं सीबीएसई की कक्षा एक से पांचवीं तक की किताबें बाजार में 500 से 1500 रुपए में आ रही हैं।

ग्वालियर। स्कूल शिक्षा में एक समानता लाने का प्रयास प्रदेश सरकार कर रही है। नया सत्र शुरू होने के साथ बाजार में किताबों की बिक्री शुरू हो गई। किताब विक्रेता मनमाफिक दामों में छोटी कक्षा की किताबें बेच रहे हैं।

एनसीईआरटी की कक्षा एक से पांचवीं तक की किताबें बाजार में 150-250 रुपए में मिल रही है। वहीं सीबीएसई की कक्षा एक से पांचवीं तक की किताबें बाजार में 500 से 1500 रुपए में आ रही हैं। सीबीएसई का सिलेब्र्स लागू कर निजी स्कूल संचालक कमीशन का खेल कर रहे हैं। इन किताबों के बढ़े दामों में स्कूल संचालक का शेयर होने की बात कुछ बुक सेलर्स भी दबी जुबान से स्वीकार कर रहे हंै।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ हायर सेकंडरी एज्युकेशन ने सत्र 2017-18 से स्कूलों में एनसीईआरटी किताबें लागू करने का आदेश दिया। वहीं, जिला प्रशासन हर साल निजी स्कूलों को कम किताबें, सस्ती कीमत की किताबें शुरू करने का आदेश देता चला आ रहा है। इसके बाद भी स्कूल संचालक कक्षा एक में पांच से छह या इससे अधिक किताबें चला रहे हैं, जबकि एनसीईआरटी में तीन से चार ही चलाई जा रही हैं। इस वजह से अभिभावक की जेब खाली हो रही है।

हर पब्लिशर्स के दामों में अंतर
सीबीएसई की किताबें बाजार में कई प्रकार के पब्लिसर्स की आ रही हैं। हर पब्लिसर्स के दामों में अंतर है। निजी स्कूल संचालक इन पब्लिसर्स को स्टैंडर्ड पब्लिसर्स बताकर अभिभावकों को गुमराह कर रहे हैं, जबकि इन पब्लिसर्स ने शहर के स्कूल संचालकों से 50 फीसदी कमीशन की सेटिंग कर रखी है। इसलिए स्कूल प्रबंधन मनमर्जी के पब्लिसर्स की किताबें पढ़ा रहे हैं। एलकेजी, यूकेजी व 1 से 5वीं तक के छात्रों के बैग में 5-6 बुक खरीदने के लिए अभिभावक मजबूर हो रहे हैं। इन्हीं पब्लिसर्स की कॉपी भी बाजार में बिक रही है।

अभिभावक परेशान
निजी पब्लिसर्स की महंगी किताबें खरीदने पर स्कूल संचालक अभिभावकों को मजबूर कर रहे हैं। इस ओर जिला प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराया है। कमीशन के खेल का शिकार अभिभावक हो रहे हैं।
सुधीर सप्रा, अध्यक्ष, ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन

कमीशन का खेलसरकार की मंशा एनसीईआरटी की बुक लागू करने की है। कई स्कूल निजी पब्लिसर्स की सीबीएसई की बुक बेच रहे हैं। एनसीईआरटी की बुक सस्ती है, जबकि सीबीएसई की बुक 5-10 गुना महंगी आ रही हैं।
कमल राजवानी, बुक सेलर्स, महारानी लक्ष्मीबाई मार्केट

मेरी जानकारी में नहीं
यह मामला मेरी जानकारी में नहीं आया। यद्पि ऐसा है तो स्कूल प्रबंधनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अब तक ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली।
विकास जोशी,जिला शिक्षा अधिकारी

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???